चीन ने पाकिस्‍तानी नौसेना के लिए बनाया घातक युद्धपोत, भारत की बढ़ेगी टेंशन – Navbharat Times

हाइलाइट्स

  • पाकिस्‍तानी नौसेना के साथ मिलकर हिंद महासागर पर राज करने का ख्‍वाब देख रहा चीन
  • चीन ने पाकिस्‍तान के लिए एक नया अत्‍याधुनिक युद्धपोत टाइप-054 बनाया है
  • टाइप-054 फ्रिगेट शिप को शंघाई के हुडोंग झोंगहुआ शिपयार्ड में लॉन्‍च किया गया

इस्‍लामाबाद
पाकिस्‍तानी नौसेना के साथ मिलकर हिंद महासागर पर राज करने का ख्‍वाब देख रहे चीनी ड्रैगन ने पाकिस्‍तान के लिए एक नया अत्‍याधुनिक युद्धपोत बनाया है। टाइप-054 फ्रिगेट शिप को मंगलवार को शंघाई के हुडोंग झोंगहुआ शिपयार्ड में लॉन्‍च किया गया। पाकिस्‍तानी मीडिया का दावा है कि यह नया युद्धपोत नौसेना में शामिल तकनीकी रूप से सबसे ज्‍यादा आधुनिक युद्धपोतों में से एक होगा।

इस युद्धपोत में अत्‍याधुनिक सरफेस, सब सरफेस और एंटी एयर हथियार लगे हुए हैं। इस युद्धपोत में इलेक्‍ट्रॉनिक वॉरफेयर, एयर और जमीनी निगरानी के लिए उपकरणों और सेंसर को लगाया जाएगा। इसके अलावा युद्धपोत में अत्‍याधुनिक युद्ध प्रबंधन सिस्‍टम लगा है जिससे पाकिस्‍तानी नेवी की लड़ने की क्षमता कई गुना बढ़ जाएगी। यही नहीं इस युद्धपोत के आने के बाद पाकिस्‍तान की समुद्री सुरक्षा और प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ेगी।
पीएम मोदी को बाइडन का फोन, इमरान खान को ना, बौखलाया पाकिस्‍तान, अमेरिका को दी गीदड़भभकी
पाकिस्‍तान ने चीन के साथ 7 अरब डॉलर की डील की
बता दें कि चीन और पाकिस्तान के बीच दोस्‍ती गहराती हुई नजर आ रही है। चीन के बेल्ट ऐंड रोड इनिशिएटिव में चीन-पाकिस्तान इकनॉमिक कॉरिडोर एक अहम हिस्सा है, दोनों देशों के बीच सैन्य हथियारों को लेकर भी कई डील हुई हैं। चीन से मिल रहे युद्धपोत से पाकिस्‍तानी नौसेना बेहद घातक हो जाएगी जो भारत के लिए खतरे की घंटी है। इसके अलावा चीन कई अन्‍य हथियार पाकिस्‍तानी नौसेना को दे रहा है। इसके लिए पाकिस्‍तान ने चीन के साथ 7 अरब डॉलर की डील की थी।

युआन क्‍लास सबसे शांत पनडुब्बियों में से एक
पाकिस्‍तान को मिलने वाली चीनी युआन क्‍लास की पनडुब्‍बी दुनिया में सबसे शांत मानी जाने वाली पनडुब्‍ब‍ियों में से एक है। इन 8 में से 4 वर्ष 2023 पाकिस्‍तान को मिल जाएंगी। डीजल इलेक्ट्रिक चीन की इस पनडुब्बी में ऐंटी शिप क्रूज मिसाइल लगी होती हैं। यह पनडुब्बी एयर इंडिपैंडेंट प्रपल्शन सिस्टम के कारण कम आवाज पैदा करती है जिससे इसे पानी के नीचे पता लगाना बहुत मुश्किल होता है। पाकिस्‍तान अब अपना 70 फीसदी हथियार चीन से खरीद रहा है। इसके अलावा, चीन जिबूती, ग्‍वादर और मालदीव में नेवल बेस बनाने की तैयारी कर रहा है ताकि सैन्‍य उपकरणों को तत्‍काल कहीं भी भेजा जा सके।

Related posts