कोरोना के नए स्ट्रेन से अस्पतालों पर बढ़ सकता है दबाव, जानें कितना खतरनाक है वायरस का यह नया रूप – NDTV India

ब्रिटेन में सितंबर में आया था कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन, यूरोप के कई देशों तक पहुंचा

नई दिल्ली:

ब्रिटेन (Britain) में सामने आए कोरोना वायरस के बेकाबू स्ट्रेन (Corona Virus ‘s new Strain) को लेकर दुनिया भर में हड़कंप मच गया है. भारत समेत दुनिया भर के करीब 35 देशों ने ब्रिटेन से आने-जाने वाली उड़ानों पर रोक ( UK Flight Ban) लगा दी है. लेकिन नए स्ट्रेन के बाद वैक्सीन के नए सिरे से परीक्षण की जरूरत होगी और मौजूदा टीका कारगर होगा या नहीं. क्या नए मरीजों में बेतहाशा इजाफे के साथ इससे मौतें भी बढ़ेंगी, इसको लेकर सवाल उठने लगे हैं. NDTV  ने विशेषज्ञों के हवाले से इन्हीं सवालों का जवाब दिया है. लंदन यूनिवर्सिटी (London University) के वैक्सीन वालंटियर डॉक्टर विक्रम तलौलिकर ने कहा कि नया स्ट्रेन तेजी से फैलता है. हालांकि इससे ज्यादा जानलेवा अभी नहीं कहा जा सकता. लेकिन ज्यादा संक्रामक होने के कारण अस्पताल में भर्ती होने के मामले बढ़ सकते हैं. इससे देशों के स्वास्थ्य सिस्टम पर दबाव बढ़ सकता है. आने वाले एक-दो हफ्ते में जाकर पता चलेगा कि यह कितना खतरनाक रूप लेगा.

यह भी पढ़ें

तलौलिकर ने कहा कि वायरस के अब तक हजारों म्यूटेशन सामने आ चुके हैं. लेकिन यह वायरस तेजी से इंसानों को संक्रमित कर सकता है, जो चिंताजनक बात है. लगता है कि नए स्ट्रेन को लेकर नई तरह से वैक्सीन बनाने की जरूरत नहीं पड़ेगी. फाइजर, मॉडर्ना की की वैक्सीन इसमें कारगर हो सकती है. लेकिन आगे और परीक्षण की जरूरत पड़ेगी. लेकिन अगर वायरस का और ज्यादा म्यूटेशन होता है तो नई वैक्सीन की जरूरत पड़ सकती है. फ्लू में भी हर साल नया रूप देखने को मिलता है और वैक्सीन का विकास होता रहता है. वैक्सीन निर्माताओं ने भी ध्यान में रखा है कि वायरस बहुत सारे रूप (म्यूटेशन) धारण करता है औऱ इसी के अनुसार टीके को तैयार किया गया है.

भारत के नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने UK से आने और जाने वाली सभी उड़ानों को 31 दिसंबर तक के लिए निलंबित कर दिया है. यह फैसला 22 दिसंबर रात 23.59 बजे से लागू होगा. वहीं महाराष्ट्र सरकार ने ब्रिटेन में कोरोना के नए स्ट्रेन सामने आने के कारण बड़े शहरों में 5 जनवरी तक‍ नाइट कर्फ्यू लागू करने की घोषणा की है. साथ ही यूरोप और मध्य पूर्व देश से आने वाले यात्रियों को 14 दिनों तक क्वारंटाइन में भेजा जाएगा. वहीं अन्य देशों से महाराष्ट्र में आने वालों को होम क्वारंटाइन में रहना होगा.

Newsbeep

गौरतलब है कि सितंबर में वायरस (Corona Virus) का यह खतरनाक स्ट्रेन मिला था. यह स्ट्रेन 70 फीसदी ज्यादा संक्रामक है. ब्रिटेन में कोरोना के जो भी नए मामले सामने आ रहे हैं, उनमें दो तिहाई से ज्यादा इस नए स्ट्रेन से संक्रमित हैं. डेनमार्क, इटली, नीदरलैंड जैसी देशों में भी ब्रिटेन का यह नया स्ट्रेन फैल चुका है. भारत में अभी तक आधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं हुई है कि नए स्ट्रेन का कोई मामला है या नहीं. हालांकि भारत सरकार ने 31 दिसंबर तक ब्रिटेन से आने-जाने वाली उड़ानें रोक दी हैं. फ्रांस, बेल्जियम, नीदरलैंड, जर्मनी, पुर्तगाल, डेनमार्क, नार्वे और स्पेन जैसे यूरोपीय देशों ने ब्रिटेन से आने-जाने वाली उड़ानों पर रोक लगा दी है. लैटिन अमेरिका में अर्जेन्टीना, पेरू, इक्वेडोर जैसे देशों ने भी ब्रिटेन ने हवाई संपर्क बंद कर दिया है. खाड़ी देश इजरायल, सऊदी अरब जैसे देशों ने भी ब्रिटेन से हवाई संपर्क रोक दिया है. यूरोपीय देशों ने यह कदम ऐसे वक्त उठाया है, जब क्रिसमस (Christmas)  और नए साल के जश्न (New Year Celebration) को लेकर लोग बाहर घूमने जाने की योजना बना रहे हैं.

 

Related posts