डीएम, एडीएम के भ्रष्टाचार के खिलाफ धरना देने वाले SDM पर गिरी गाज, अनुशासनहीनता में निलंबित – News18 हिंदी

प्रतापगढ़ में डीएम आवास पर धरना देते एसडीएम विनीत उपाध्याय (File Photo)

प्रतापगढ़ (Pratapgarh) के एसडीएम विनीत उपाध्याय (SDM Vineet Upadhyay) को अनुशासनहीनता को दोषी मानते हुए निलंबित किया गया है. वहीं पूरे मामले की जांच इलाहाबाद के कमिश्नर को सौंप दी गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated:
    September 26, 2020, 11:03 AM IST
  • Share this:
प्रतापगढ़. उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ (Pratapgarh) में डीएम और एडीएम पर भ्रष्टाचार (Corruption) का आरोप लगाने वाले और डीएम आवास पर धरना देने वाले एसडीएम विनीत उपाध्याय (SDM Vineet Upadhyay) निलंबित (Suspend) कर दिए गए हैं. शासन की तरफ से एसडीएम विनीत उपाध्याय को निलंबित करने का फरमान जारी हो गया है. उन पर अनुशासनहीनता के कारण ये कार्रवाई हुई है. इसके अलावा पूरे मामले की जांच इलाहाबाद के कमिश्नर को सौंप दी गई है. इलाहाबाद कमिश्नर मामले में पूरी जांच करेंगे और जांच कर रिपोर्ट शासन को सौंपेंगे.

धरने पर बैठते ही मच गया हड़कंप

बता दें शुक्रवार को उस समय हड़कंप मच गया, जब प्रतापगढ़ में डीएम आवास के अंदर एसडीएम विनीत उपाध्याय धरने पर बैठ गए. उन्होंने प्रतापगढ़ के डीएम रूपेश कुमार और एडीएम शत्रोहन वैश्य पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए. उधर एसडीएम के बैठने से प्रदेश की ब्यूरोक्रेसी में हड़कंप मच गया.

लगाए गंभीर आरोपदरअसल एसडीएम विनीत उपाध्याय लालगंज इलाके में पट्टा आवंटन में खेल कराने से ख़फ़ा थे. एसडीएम विनीत उपाध्याय का आरोप है कि स्कूल की रिपोर्ट लगाने के लिए उन पर दबाव बनाया गया था. बताया जा रहा है कि जिले के लालगंज इलाके में संचालित स्कूल की एक रिपोर्ट को लेकर एडीएम ने उन पर दबाव बनाया था.

4 घंटे बाद धरना किया था खत्म

डीएम आवास के अंदर मीडिया के जाने पर रोक लगा दी गई. इसके अलावा मौके पर सीओ सहित भारी पुलिसबल तैनात कर दिया गया. काफी मनाने के बाद भी एसडीएम नहीं माने और अफसरों पर कार्रवाई की मांग को लेकर अड़े रहे. आखिरकार कई घंटे की मशक्कत के बाद करीब 4 घंटे बीते तब जाकर एसडीएम विनीत उपाध्याय शांत हुए. उन्होंने मामले की जांच कराने के आश्वासन के बाद धरना खत्म किया.

डीएम आवास पर बैठ गए जमीन पर

एसडीएम विनीत उपाध्याय को मंडलायुक्त, प्रयागराज ने तलब किया. डीएम आवास पर धरना समाप्त करने के बाद एसडीएम सीधे प्रयागराज रवाना हुए. दरअसल एसडीएम के धरने से प्रशासन की किरकिरी होने के बाद उन्हें तलब किया गया. बता दें पीसीएस अधिकारी विनीत उपाध्याय ईमानदार छवि के अधिकारी माने जाते हैं. इस घटना के बाद जिलाधिकारी आवास की सुरक्षा कड़ी कर दी गई. मौके से जो तस्वीर सामने आईं, उसमें पीसीएस अधिकारी विनीत उपाध्याय जमीन पर बैठे नजर आए.

इनपुट: अनामिका सिंह/रोहित सिंह

Related posts