7 मंत्रियों समेत 17 विधायक दिल्ली और बेंगलुरु पहुंचे; कांग्रेस यह संकट टालने के लिए सिंधिया को प्रदेश अध्यक्ष या राज्यसभा सदस्य बना सकती है

भोपाल. मध्य प्रदेश में चल रहे सियासी ड्रामे में सोमवार को बड़ी उथल-पुथल सामने आई। ज्योतिरादित्य सिंधिया गुट के 7 मंत्रियों समेत 17 विधायक दिल्ली और बेंगलुरु पहुंच गए हैं। इनके फोन बंद आ रहे हैं। खबर लगते ही मुख्यमंत्री कमलनाथ दिल्ली से भोपाल के लिए रवाना हुए। बताया जा रहा है कि कांग्रेस में बगावत के संकेत देखते हुए भाजपा विधानसभा सत्र की शुरुआत में कमलनाथ सरकार के खिलाफ भाजपा अविश्वास प्रस्ताव ला सकती है। माना जा रहा है कि संकट को टालने के लिए कांग्रेस ज्योतिरादित्य सिंधिया को प्रदेश अध्यक्ष या राज्यसाभ सदस्य बना सकती है।

इन मंत्रियों-विधायकों के फोन बंद

मंत्री प्रद्युम्न सिंह, महेंद्र सिंह सिसोदिया, तुलसी सिलावट, इमरती देवी, गोविंद सिंह राजपूत,प्रभुराम चौधरी और उमंग सिंघार बेंगलुरु गए हैं। भास्कर ने जब सभी को फोन लगाया तो इनके फोन बंद मिले। विधायक ओपीएस भदौरिया, जसवंत जाटव के मोबाइल बंद हैं और वे अपने विधानसभा क्षेत्र में भी नहीं हैं। सूत्रों के मुताबिक, कुछ विधायक दिल्ली और कुछ विधायक बेंगलुरु में हैं। बेंगलुरु के बाहरी इलाके में विधायकों को ठहराया गया है। यहां 400 पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है।

कमलनाथ ने सिंधिया पर नहीं दिया कोई जवाब
मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सोमवार को दिल्ली में सोनिया गांधी से मुलाकात की। मुलाकात के बाद कमलनाथ ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष से कई मसलों पर चर्चा हुई है। उनका मार्गदर्शन मिला है, उसका पालन करूंगा। ज्योतिरादित्य सिंधिया को राज्यसभा भेजे जाने के सवाल पर कमलनाथ ने कोई जवाब नहीं दिया।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

कांग्रेस महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ।

Source: DainikBhaskar.com

Related posts