दिल्ली सरकार ने निर्भया मामले में दोषी की दया याचिका खारिज करने की सिफारिश की – News18 इंडिया

पवन गुप्ता की दया याचिका दाखिल होने के कारण फांसी रोकी गई है. (प्रतीकात्मक फोटो)

दिल्ली की अरविंद केजरीवाल (Arvind kejriwal) सरकार ने निर्भया गैंगरेप मामले (Nirbhaya Gang Rape) के 4 दोषियों में से एक पवन गुप्ता की दया याचिका को खारिज करने की सिफारिश की है. सूत्रों ने कहा कि दिल्ली सरकार ने गृह मंत्रालय से दया याचिका मिलने के कुछ ही मिनटों के बाद यह सिफारिश की.

  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली की अरविंद केजरीवाल (Arvind kejriwal) सरकार ने निर्भया सामूहिक दुष्कर्म (Nirbhaya Gang Rape) और हत्या मामले के एक दोषी पवन गुप्ता द्वारा दायर की गई दया याचिका को खारिज करने की सिफारिश की है. पवन के वकील ने सोमवार को ही यह अपील दायर की है. सूत्रों ने कहा कि दिल्ली सरकार ने गृह मंत्रालय से दया याचिका मिलने के कुछ ही मिनटों के बाद यह सिफारिश की. एक सूत्र ने बताया कि, ‘दिल्ली सरकार ने पवन गुप्ता की दया याचिका खारिज करने की सिफारिश की है. मामले की फाइल अब उप राज्यपाल अनिल बैजल के पास उनकी अनुशंसा के लिए भेजी जाएगी.’

अगले आदेश तक कोर्ट ने लगाई रोक
अधिकारियों ने सोमवार को कहा कि इससे पहले दिन में गृह मंत्रालय को पवन (25) की दया याचिका मिली थी. मंत्रालय यह याचिका राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को उनके विचारार्थ और फैसले के लिए भेजेगा. दिल्ली की एक अदालत ने सोमवार को 2012 के इस मामले में चारों दोषियों की फांसी पर अगले आदेश तक रोक लगा दी थी. चारों दोषियों को पहले मंगलवार सुबह छह बजे फांसी दी जानी थी.

तीसरी बार टली है फांसीकोर्ट ने एक दोषी पवन गुप्ता की दया याचिका राष्ट्रपति के पास होने की वजह के फांसी टाल दी. पटियाला हाउस कोर्ट में सुनवाई के दौरान जज धर्मेंद्र राणा ने निर्भया के दोषियों के डेथ वारंट पर रोक लगाते हुए कहा कि कोर्ट के अगले आदेश तक सभी दोषियों की फांसी पर रोक लगाई जाती है. अब राष्ट्रपति द्वारा दोषी पवन गुप्ता की दया याचिका खारिज होने बाद कोर्ट दोबारा डेथ वारंट की नई तारीख मुकर्रर करेगी. इस मामले में दोषियों की तीसरी बार फांसी टल चुकी है. बता दें कि सोमवार को दोषी पवन गुप्ता ने राष्ट्रपति के पास दया याचिका लगाई है. तिहाड़ जेल प्रशासन ने जैसे ही ये जानकारी कोर्ट को दी, कोर्ट ने फांसी पर रोक लगा दी.

दोषियों के वकील को कोर्ट ने लगाई फटकार
इससे पहले सुनवाई करते समय कोर्ट ने वकील एपी सिंह को फटकार लगाते हुए कहा कि हाई कोर्ट ने जब 7 दिन में लीगल रेमेडिज लेने को कहा था, तो आपने क्यों नहीं लिया? इसके साथ ही कोर्ट ने एपी सिंह की एक याचिका खारिज कर दी जिसमें वे दोषी अक्षय की तरफ से एक बार फिर राष्ट्रपति के पास दया याचिका लगाने की बात कह रहे थे. इस दौरान कोर्ट ने उन्हें साफ तौर पर कहा कि आप बार-बार दया याचिका नहीं लगा सकते.(एजेंसी इनपुट के साथ)

ये भी पढे़ं – 

दिल्ली हिंसा: अब तक 1300 लोग गिरफ्तार, सुरक्षा के बीच छात्रों ने दी परीक्षा

दिल्ली हिंसा: अफवाह फैलाने के आरोप में ट्विटर पर सक्रिय युवक गिरफ्तार

[embedded content]

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 3, 2020, 5:07 AM IST

Related posts