छह हजार रुपये वेतन वाले को आयकर की ओर से इतने का नोटिस, जानकर दंग रह जाएंगे आप

Publish Date:Thu, 16 Jan 2020 10:10 PM (IST)

भिंड, जेएनएन। मध्य प्रदेश में भिंड जिले के रवि गुप्ता को आयकर विभाग ने 3.49 करोड़ रुपये टैक्स जमा करने को लेकर नोटिस जारी किया है। यहां हैरान करने वाली बात यह है कि वह महज छह हजार रुपये महीने कमाते हैं। नोटिस मिलने के बाद रवि ने छानबीन की तो पता चला कि उनका पैन कार्ड और फोटो उपयोग कर हीरा कंपनी का मालिक बताकर खाता खुलवाया गया है। उनके नाम से मुंबई की एक्सिस बैंक में फर्जी तरीके से खाता खोलकर एक साल में 132 करोड़ रुपये का लेनदेन किया गया है।
रवि ने सीबीआइ, महाराष्ट्र पुलिस, ग्वालियर क्राइम ब्रांच में मामले की शिकायत की है। आयकर विभाग को भी बताया है कि उसके नाम से फर्जी खाता खोला गया है। रवि का कहना है, जब यह अकाउंट खोला गया तब उनकी तनख्वाह महज छह-सात हजार रुपये ही थी।
यह है मामला
रवि गुप्ता पुत्र रामप्रकाश गुप्ता वर्तमान में लुधियाना (पंजाब) की कोचर इंफोटेक कंपनी में असिस्टेंट मैनेजर हैं। रवि के मुताबिक, उन्हें मेल पर पहली बार 30 मार्च 2019 को आयकर विभाग की ओर से नोटिस दिया गया था। इसमें बताया गया था कि आपके अकाउंट से करोड़ों का लेनदेन हुआ है।

रवि का कहना है कि उन्होंने इस नोटिस को गंभीरता से नहीं लिया। दूसरा नोटिस आया तो उसमें बताया गया कि आपने हीरा कंपनी टिया ट्रेडर्स के जरिये लेनदेन किया है। रवि ने जवाब दिया कि उनकी इस तरह की कोई कंपनी नहीं है। तीसरा नोटिस आया तो रवि लुधियाना से छुट्टी लेकर आयकर विभाग ग्वालियर के अधिकारियों के पास पहुंचे। अधिकारियों ने बताया कि आपके अकाउंट से करोड़ों का ट्रांजेक्शन हुआ था। इसका टैक्स जमा होना है। रवि ने स्टेटमेंट निकलवाया तो मालूम हुआ कि वर्ष 2011-12 में खाता खोलकर 132 करोड़ का लेनदेन किया गया है। एक जनवरी को रवि को आयकर से मिले नोटिस में उनसे 17 जनवरी तक टैक्स की रकम जमा करने के लिए कहा गया है।

सूरत में पंजीकृत है हीरा कंपनी
रवि के नाम पर जिस टिया ट्रेडर्स के जरिये 132 करोड़ रुपये का लेनदेन हुआ, वह गुजरात के सूरत में पंजीकृत कराई गई है। रवि का कहना है कि एक्सिस बैंक में खाता खुलवाने के लिए उनका पता 7/ए जीआरडी धन मैंसन गजधर रोड सी वार्ड एसएस रोड मुंबई (महाराष्ट्र) बताया गया है। खाता खोलने से पहले बैंक की ओर से वेरीफाई रिपोर्ट में खुद की कार और गुड्स वैन होना बताया गया है, जबकि उनके पास कभी कार नहीं रही। यहां तक कि ड्राइविंग लाइसेंस तक नहीं है।

फर्जीवाड़े में भगोड़े नीरव मोदी पर शक
रवि गुप्ता कहते हैं कि इस पूरे फर्जीवाड़े के पीछे उन्हें हीरा व्यापारी भगोड़े नीरव मोदी पर शक है। अकाउंट वेरीफाई करने में उनका जो पता बताया गया है, उसके पास ही नीरव मोदी की फर्म रही है। रवि के मुताबिक, यह जानकारी उन्हें गूगल पर सर्च करने पर मिली है। इसी शक के आधार पर उन्होंने सीबीआइ से जांच की मांग की है। बीकॉम पास रवि का कहना है कि खाता खोलने में उनके हस्ताक्षर से मेल खाते हस्ताक्षर किए गए हैं। 
Posted By: Arun Kumar Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

Source: Jagran.com

Related posts

Leave a Comment