LIVE: राष्ट्रपति शासन की हमें उम्मीद नहीं थी – सुधीर मुनगंटीवार

मुंबई: महाराष्ट्र की राजनीति अब अपने चरम सिमा पर पहुंच गई है. पहले बीजेपी, फिर शिवसेना और अब राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी ने राष्ट्रवादी कांग्रेस (NCP) को सरकार बनाने का मौका दिया है. एनसीपी को आज शाम 8:30 बजे तक बहुमत साबित करने के लिए कहा है.उधर राज्य की लगभग सभी प्रमुख पार्टियों में मीटिंग का दौर जारी है. ऐसे में कांग्रेस और शिवसेना का सरकार गठन को स्टेंड क्या होगा इसपर सभी की नज़ारे टिकीं हुई है. महाराष्ट्र के सियासी हलचल से जुड़े हर अपडेट के लिए जुड़े रहें हमारे साथ…
LIVE UPDATES:
– राष्ट्रपति शासन की हमें उम्मीद नहीं थी। हम यह सुनिश्चित करने का प्रयास करेंगे कि लोगों के जनादेश का सम्मान किया जाए। हम स्थिर सरकार बनाने की कोशिश करेंगे: बीजेपी नेता सुधीर मुनगंटीवार
– केंद्रीय मंत्री पद छोड़ने के लिए अरविंद सावंत का धन्यवाद। सावंत कट्टर शिवसैनिक हैं। उनकी पार्टी को सम्मान नहीं मिला तो उन्होंने मंत्री पद छोड़ दिया: उद्धव
– अब तो राज्यपाल ने हमें 6 महीने का समय दे दिया है। अब हम तीनों (कांग्रेस-एनसीपी-शिवसेना) कॉमन मिनिमम प्रोग्राम पर बातचीत करेंगे। अब तक सिर्फ शिवसेना ने सरकार बनाने का दावा पेश किया है। ऐसे में हमारा दावा अब भी बरकार है: उद्धव ठाकरे
– होटल में पार्टी विधायकों से मिलने के बाद प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने राष्ट्रपति शासन पर नाराजगी जताई। इसके साथ ही उद्धव ने दावा किया कि वह अभी भी सरकार बना सकते हैं। उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस-एनसीपी से बातचीत चल रही है। हमें थोड़ा वक्त चाहिए। हम अभी भी सरकार बना सकते हैं। हमने राज्यपाल से भी सरकार बनाने की इच्छा जाहिर की थी। पर, राज्यपाल ने हमें समय नहीं दिया।’
– एनसीपी-कांग्रेस की साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में शरद पवार ने कहा, हम दोबारा चुनाव नहीं चाहते हैं. पवार ने कहा कि कांग्रेस से बातचीत पूरी होने के बाद शिवसेना से बात करेंगे.
– कांग्रेस और एनसीपी में कॉमन मिनिमम प्रोग्राम को लेकर कोई मतभेद नहीं है लेकिन शिवसेना ने हमारे साथ चुनाव नहीं लड़ा था इसलिए उनके साथ बातें तय होना बाकी है. एनसीपी से बात करने के बाद ही हम शिवसेना से बात करेंगे. पहले एनसीपी और कांग्रेस में बात फाइनल होगी: अहमद पटेल
– एनसीपी से बात किये बिना फैसला नहीं ले सकते. एनसीपी से बात पूरी होने के बाद शिवसेना से बात करेंगे – अहमद पटेल
– कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने कहा कि राज्यपाल का कांग्रेस को न्योता न देना गलत है. साथ ही कहा कि केंद्र ने कई राज्यों में मनमानी की.
– राष्ट्रपति शासन की जरूरत नहीं थी- अहमद पटेल
– शिवसेना ने पहली बार 11 नवंबर को अधिकृत रूप से कांग्रेस-एनसीपी से समर्थन मांगा था। फैसले से पहले सभी पहलुओं पर चर्चा होगी। आम सहमति बनने के बाद आगे की नीति तय की जाएगी: प्रफुल्ल पटेल
– एनसीपी नेता प्रफुल पटेल ने कहा कि महाराष्ट्र के वर्तमान राजनीतिक हलचल के बारे में चर्चा की.
– सरकार गठन के सियासी ड्रामे के बीच मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने कहा कि राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाना महाराष्ट्र के मतदाताओं का घोर अपमान है.
– महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू करने के फैसले पर थोड़ी ही देर में एनसीपी प्रमुख शरद पवार और कांग्रेस नेताओं की संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस करने वाले है.
– शिवसेना ने राष्ट्रपति शासन के खिलाफ कल सुबह दूसरी अर्जी सुप्रीम कोर्ट में दाखिल कर सकती है. इससे पहले शिवसेना ने राष्ट्रपति शासन लागू करने के ही सन्दर्भ में याचिका दाखिल की थी. जिसपर कोर्ट में कल सुबह सुनवाई होने वाला है.

Shiv Sena’s lawyer Sunil Fernandes says, “SC registry has said they may mention the matter tomorrow before the court, for urgent hearing. Fresh/second petition challenging the imposition of President’s Rule is being readied. The decision on when to file it will be taken tomorrow” https://t.co/iezTlar2jy
— ANI (@ANI) November 12, 2019

No hearing today in Supreme Court on Shiv Sena’s plea against Maharashtra Governor Bhagat Singh Koshyari’s decision of denying three more days to the party to get letters of support from NCP and Congress. #Maharashtra pic.twitter.com/Tu1b0XaQ1w
— ANI (@ANI) November 12, 2019

– थोड़ी ही देर में NCP और कांग्रेस करेंगे संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस
– शिवसेना के विधायकों से मिले पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे
– शिवसेना की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई नहीं होगी. कल सुबह याचिका को मेंशन करेंगे, जल्द सुनवाई के लिए. शिवसेना ने याचिका में कहा है कि राज्यपाल ने हमें दूसरी पार्टियों से समर्थन की चिट्ठी पाने के लिए उचित समय नहीं दिया. बहुमत का फैसला विधानसभा में होता है, राजभवन में नहीं. राजभवन बीजेपी के इशारे पर काम करता हुआ नजर आ रहा है.
-महाराष्ट्र सरकार का विचार है कि चुनावी प्रक्रिया की समाप्ति के 15 दिन हो जाने के बाद भी कोई भी राजनीतिक पार्टी सरकार बनाने की स्थिति में नहीं है, लिहाजा राष्ट्रपति शासन बेहतर विकल्प हैः गृह मंत्रालय
– गृह मंत्रालय के ओर से बयान में कहा गया है कि महाराष्ट्र में 6 महीने तक राष्ट्रपति शासन लगा है. हालांकि, मंत्रालय की ओर से यह भी कहा गया है कि यदि कोई भी पार्टी बहुमत साबित में सफल रही तो राष्ट्रपति शासन को हटा दिया जाएगा.

-पिछले 19 दिन से चले सियासी खींचतान के बाद आज महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया. मिली जानकारी के मुताबिक रामनाथ कोविंद ने केंद्रीय कैबिनेट सिफारिश को मंजूरी दे दी है.

President’s Rule imposed in the state of #Maharashtra, after the approval of President Ram Nath Kovind. pic.twitter.com/tR3qW4xYbR
— ANI (@ANI) November 12, 2019

– देवेंद्र फडणवीस के घर बीजेपी कमिटी की बैठक बुलाई गई है.
– महाराष्ट्र में आगे की रणनीति पर चर्चा के लिए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, अहमद पटेल और केसी वेणुगोपाल एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार से मिलने पहुंचे हैं.

Maharashtra: Congress leaders Mallikarjun Kharge, Ahmed Patel and KC Venugopal arrive in Mumbai, to meet Nationalist* Congress Party Chief Sharad Pawar https://t.co/xcpXcRk96i pic.twitter.com/VMGr3m4znj
— ANI (@ANI) November 12, 2019

– कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी पर हमला बोला है. सुरजेवाला ने कहा कि महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन की सिफारिश कर राज्यपाल ने संवैधानिक प्रक्रिया का मजाक उड़ाया है. सुरजेवाला ने कहा कि राज्यपाल  को सबसे पहले चुनाव के पहले बने गठबंधन बीजेपी-शिवसेना को सरकार बनाने का मौका देना चाहिए था. दूसरे नंबर पर राज्यपाल को कांग्रेस और एनसीपी को सरकार बुनाने के लिए बुलाना चाहिए था. क्योंकि ये दूसरा सबसे बड़ा पोस्ट पोल एलायंस था. अगर राज्यपाल सभी पार्टियों को अलग-अलग बुला रहे थे तो उन्होंने कांग्रेस को सरकार बनाने के लिए क्यों नहीं बुलाया?
– महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की कैबिनेट की सिफारिश के बीच कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने केंद्र सरकार की आलोचना की है. संजय निरुपम ने ट्वीट कर कहा है कि महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने का फैसला बहुत पहले हो चुका था. लेकिन माननीय राज्यपाल को अपनी रिपोर्ट भेजने से पहले आज रात 8.30 बजे तक इंतजार करना चाहिए था, क्योंकि इस समयसीमा को उन्होंने ही तय किया था और एनसीपी को सरकार बनाने का मौका दिया था. पहली नजर में यह अवैध और असंवैधानिक दिखता है.

Imposition of President Rule in Maharashtra was decided long ago.But Hon Governer should have waited till 8.30 tonight before sending report to Centre. Bcoz he only had fixed this deadline with NCP as last option to form govt.Prima facie it looks illegal & unconstitutional now.
— Sanjay Nirupam (@sanjaynirupam) November 12, 2019

– महाराष्ट्र के राज्यपाल को एनसीपी ने दोपहर 12:30 बजे चिट्ठी लिखकर अपने पास बहुमत नहीं होने की जानकारी दी थी और 3 दिन का समय मांगा था. इसके बाद राज्यपाल ने एनसीपी को दिए शाम 8:30 बजे तक के समय के खत्म होने की प्रतीक्षा किए बिना ही चिट्ठी के आधार पर राज्य में किसी भी दल के सरकार नहीं बना पाने की स्थिति की रिपोर्ट गृह मंत्रालय को भेज दी. गृह मंत्रालय ने इस रिपोर्ट को केंद्रीय कैबिनेट के पास भेजा और उसके बाद केंद्रीय कैबिनेट की इमरजेंसी बैठक बुलाई गई इस बैठक में महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने को मंजूरी दे दी गई.
– राष्ट्रपति शासन को लेकर राज भवन की ओर से की गई पुष्टि, महाराष्ट्र में संविधान के अनुसार नहीं चल सकती सरकार, राज्यपाल ने रिपोर्ट में की राष्ट्रपति शासन की सिफारिश. इसी बीच शिवसेना भी सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई है.

Raj Bhavan Press Release 12.11.2019 3.16 PM pic.twitter.com/qmlQA6ghBR
— Governor of Maharashtra (@maha_governor) November 12, 2019

– एनसीपी नेता नवाब मलिक ने पार्टी विधायकों की बैठक के बाद दी जानकारी- ‘एनसीपी विधायक दल की बैठक हुई। 54 विधायक मौजूद रहे। यह प्रस्ताव पारित किया गया कि इस बारे में फैसला लेने का अधिकार शरद पवार को दिया गया जिन्होंने एक समिति बनाकर इस पर फैसला करने की बात कही है। कांग्रेस के तीन वरिष्ठ नेता मुंबई आ रहे हैं। 5 बजे कांग्रेस से बैठक करने के बाद अंतिम फैसला किया जाएगा।’

Nawab Malik, NCP: Guv called us to stake claim yesterday & gave us time till 8:30 pm today. Senior Congress leders Ahmed Patel, Mallikarjun Kharge and KC Venugopal are coming to Mumbai & will meet Pawar sa’ab at 5 pm. Decision will be taken after their discussion. https://t.co/FbBpvenRkf
— ANI (@ANI) November 12, 2019

– सूत्रों के मुताबिक, शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और वकील कपिल सिब्बल से बातचीत की है. सिब्बल से बातचीत के बाद ही उद्धव ने सुप्रीम कोर्ट जाने का फैसला किया है. सुप्रीम कोर्ट में कपिल सिब्बल शिवसेना की ओर से पक्ष रख सकते हैं.
– शिवसेना ने कहा कि अगर राज्यपाल ऐसा कदम उठाते हैं तो हम सुप्रीम कोर्ट जा सकते हैं। शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल और अहमद पटेल से बातचीत की।
– महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यिारी ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू करने की सिफारिश कर दी है. डीडी न्यूज़ के हवाले से ये खबर मिली है. सूत्रों के मुताबिक शिवसेना राज्यपाल के इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जा सकती है.
– ओवैसी ने कहा है कि चाहे राज्य में बीजेपी की सरकार हो या शिवसेना की. हम किसी का समर्थन नहीं करेंगे. शिवसेना और बीजेपी में कोई अंतर नहीं है. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे अयोध्या जाने वाले हैं. ओवैसी ने कांग्रेस को लेकर कहा है कि कांग्रेस ने अपना असली चेहरा दिखा दिया है. ये सब खेल हो रहा है. किसी के पास नंबर नहीं है. हम किसी का साथ नहीं देंगे. जिसके पास नंबर है वह सरकार बनाए.
– महाराष्ट्र में सियासी खींचतान के बीच शिवसेना नेता संजय राउत से बीजेपी नेता आशीष शेलार ने मुलाकात की है. यह मुलाकात लीलावती असत्पाल में हुई है, जहां राउत से सोमवार से भर्ती हैं. राउत को सीने में दर्द की शिकायत के बाद भर्ती कराया गया था. आज लगातार अलग अलग पार्टियों के नेता उनसे मिलने अस्पताल पहुंच रहे हैं.
– मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा है कि शरद पवार से बातचीत जारी है.
– कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, केसी वेणुगोपाल और अहमद पटेल आज मुंबई जाएंगे.
– कांग्रेस की कोर कमिटी की बैठक जारी
– सोमवार को कांग्रेस कोर ग्रुप की बैठक बेनतीजा रहने के बाद आज फिर से सोनिया गांधी के आवास पर मीटिंग बुलाई गई है. बैठक में महाराष्ट्र को लेकर चर्चा की जानी है. केसी वेणुगोपाल और एके एंटनी मीटिंग के लिए पहुंच गए हैं.
– लीलावती अस्पताल में भर्ती संजय राउत से मिले शरद पवार
– कांग्रेस और एनसीपी के बीच कोई बैठक होने वाली है इस सवाल पर शरद पवार ने कहा है कि किसने कहा कि मीटिंग है. मुझे पता नहीं.

NCP Chief Sharad Pawar on being asked if there is a meeting scheduled today between Congress and NCP: Who says there is a meeting? I don’t know. #MaharashtraGovtFormation pic.twitter.com/orGqwfyBZj
— ANI (@ANI) November 12, 2019

– सीने में दर्द की शिकायत के बाद लीलावती हॉस्पिटल में एडमिट शिवसेना नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत को मिलने पहुंचे एनसीपी के प्रमुख शरद पवार.

Mumbai: NCP Chief Sharad Pawar to meet Shiv Sena leader Sanjay Raut at Lilawati hospital today. Raut was admitted to hospital yesterday after he complained of chest pain (file pics) pic.twitter.com/VdhxYrKYpw
— ANI (@ANI) November 12, 2019

Source: HW News

Related posts