सबरीमाला में तैनात होंगे 10,000 पुलिसकर्मी, SC के फैसले पर टिकी निगाहें

सबरीमाला में 10 हजार पुलिसकर्मियों को तैनात किया जा रहा है.

सबरीमाला (Sabarimala) में भगवान अयप्पा मंदिर (Lord Ayyappa Mandir) की 2 महीने चलने वाली तीर्थयात्रा में किसी भी तरह की स्थिति से निपटने के लिए 10 हजार पुलिसकर्मियों की तैनाती की जा रही है.

News18Hindi
Last Updated:
November 12, 2019, 9:32 PM IST

Share this:

(नीतू रघुकुमार)तिरुवनंतपुरम. सबरीमाला (Sabarimala) में 16 नवंबर से शुरू हो रही भगवान अयप्पा मंदिर (Lord Ayyappa Mandir) की 2 महीने चलने वाली तीर्थयात्रा के लिए करीब 10 हजार पुलिसकर्मी तैनात किए जाएंगे. पुलिस ने बताया कि मंडल मक्कारविलाकु उत्सव (Mandala Makkarvillakku festival) के दौरान 10,017 पुलिसकर्मी पांच चरणों में मंदिर के आस-पास के क्षेत्र में तैनात किए जाएंगे.तीर्थयात्रा के समय कड़ी सुरक्षा बनाए रखने के लिए ये फैसला किया गया है. पिछले साल सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के सभी उम्र की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश की अनुमति देने वाले फैसले के बाद इसी समय में केरल (Kerala) में हिंसा भड़क गई थी.16 नवंबर को खोला जाएगा मंदिरयह मंदिर श्रद्धालुओं के लिए 16 नंवबर को खोला जाएगा. फिलहाल सबकी निगाहें सुप्रीम कोर्ट के सभी उम्र की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश की अनुमति देने वाले फैसले को चुनौती देने वाली रिव्यू पेटिशन पर हैं. इस टीम में 24 पुलिस सुप्रीटेंडेंट और असिस्टेंट पुलिस सुप्रीटेंडेंट, 11 डिप्टी सुप्रीटेंडेंट, 264 इंस्पेक्टर, 1,185 सब इंस्पेक्टर तैनात किए जाएंगे.पुलिस ने स्टेटमेंट जारी कर कहा कि 307 महिला पुलिस समेत 8,402 सिविल पुलिस ऑफिसर्स की मंदिर के आस-पास एक इलाके में ड्यूटी लगाई जाएगी. 15-30 नवंबर तक पहले चरण में सन्निधनम, पम्बा, निलाकल, एरुमेली और पाथनामथिता में सुरक्षा के लिए 2,551 में पुलिसकर्मियों की नियुक्ति की जाएगी.पिनरई विजयन ने लिया तैयारियों का जायजाLoading… मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन (Chief Minister Pinarayi Vijayan) ने पिछले हफ्ते परेशानी मुक्त तीर्थयात्रा सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न विभागों और मंदिर को प्रशासित करने वाले त्रावणकोर देवास्वोम बोर्ड (Travancore Devaswom Board) द्वारा की जा रही तैयारियों का जायजा लिया था.
मंदिर में एलडीएफ सरकार द्वारा सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लागू करने के फैसले के खिलाफ दक्षिणपंथी संगठनों के द्वारा विरोध प्रदर्शन किया था. सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में सभी आयु वर्ग की महिलाओं को मंदिर में पूजा करने की इजाज़त दी थी.ये भी पढ़ें-कर्नाटक उपचुनाव: कांग्रेस का दावा 12 सीटें जीतेंगे,जानें कैसे बचेगी BJP सरकारक्या सुप्रीम कोर्ट और चीफ जस्टिस भी आएंगे RTI के दायरे में? कल होगा फैसला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 12, 2019, 9:32 PM IST

Loading…

Source: News18 News

Related posts