भारत आज करेगा एक और परमाणु परीक्षण, 3500 किमी. होगी मारक क्षमता

देश की पहली न्यूक्लियर आर्म्ड सबमरीन आईएनएस अरिहंत से ये टेस्ट किया जा सकता है.

यह भारत (India) की दूसरी अंडरवॉटर मिसाइल (underwater missile) की है. K-4 न्यूक्लियर मिसाइल से पहले भारत ने B0-5 न्यूक्लियर मिसाइल का सफल परीक्षण किया था.

News18Hindi
Last Updated:
November 8, 2019, 9:03 AM IST

Share this:

नई दिल्ली. डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन (DRDO) आज समुद्र के अंदर न्यूक्लियर मिसाइल (Nuclear Missil) परीक्षण करने जा रहा है. भारत (India) की ओर से इस न्यूक्लियर मिसाइल को K-4 का नाम दिया गया है. यह मिसाइल 3500 किलोमीटर दूर तक सटीक निशाना साध सकती है. यह देश की दूसरी अंडरवॉटर मिसाइल (Underwater Missile) है.K-4 न्यूक्लियर मिसाइल से पहले भारत ने B0-5 न्यूक्लियर मिसाइल का सफल परीक्षण किया था. इस मिसाइल की मारक क्षमता 700 किलोमीटर से भी अधिक बताई जा रही थी. रक्षा सूत्रों के मुताबिक K-4 भारत की सबसे शक्तिशाली अंडरवॉटर मिसाइल होगी. बताया जाता है कि K-4 न्यूक्लियर मिसाइल का परीक्षण पिछले महीने ही करना था लेकिन किसी कारण से इसे टाल दिया गया था.इसे भी पढ़ें :- कितनी ताकतवर है ‘गजनवी’, भारत के सामने कहां ठहरती हैं पाकिस्तान की मिसाइलभारत अगर K-4 न्यूक्लियर मिसाइल का सफल परीक्षण कर लेता है तो वह अमेरिका, फ्रांस, चीन, ब्रिटेन और रूस के बाद छठा ऐसा देश होगा जिसके पास वॉटर न्यूक्लियर मिसाइल होगी. देश की पहली न्यूक्लियर आर्म्ड सबमरीन आईएनएस अरिहंत को अगस्त 2016 में नेवी को सौंपा गया था. उस समय से ही इस बात को लेकर चर्चा थी कि आईएनएस अरिहंत से ही न्यूक्लियर मिसाइल को दागा जाएगा.इसे भी पढ़ें :- नेशनल डे परेड में चीन ने दिखाई दुनिया की ‘सबसे ताकतवर’ मिसाइल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 8, 2019, 9:03 AM IST

Loading…

Source: News18 News

Related posts