दिवाली से पहले यहां से खरीदें 700 रुपये तक सस्ता सोना! स्कीम के बारे में जानिए

नई दिल्ली. धनतेरस और दिवाली से ठीक पहले सोना केंद्र सरकार सोना खरीदने का शानदार मौका दे रही है. दरअसल, आज से केंद्र सरकार सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड 2019-20 (Sovereign Gold Bond Scheme) के छठे सीरीज में निवेश का मौका दे रही है. ऐसे में अगर आप भी सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में निवेश करने का प्लान बना रहे हैं तो आपके पास भी 21 अक्टूबर से लेकर 25 अक्टूबर के बीच इसमें निवेश करने का शानदार मौका है. इस गोल्ड बॉन्ड में न्यूनतम निवेश 1 ग्राम सोने के लिए किया जा सकता है.​ आपको बता दें कि सर्राफा बाजार में सोने की कीमत 39000 रुपये प्रति दस ग्राम के आस-पास है. वहीं, सरकारी बॉन्ड स्कीम में सोने के दाम 3835 रुपये प्रति ग्राम रखें गए है. अगर आप 10 ग्राम सोने खरीदते है तो उसकी कीमत 38,350 रुपये बैठती है. साथ ही, ऑनलाइन 50 रुपये की छूट है. ऐसे में आपको 37,850 रुपये में 10 ग्राम सोने मिल जाएगा.ऑनलाइन निवेश करने पर 50 रुपये प्रति ग्राम की छूट रिजर्व बैंक ने इस बार एक ग्राम गोल्ड बॉन्ड का भाव 3,835 रुपये रखा है. इसमें ऑनलाइन निवेश करने वाले निवेशकों को 50 रुपये प्रति ग्राम की छूट मिलेगी. ऑनलाइन निवेश करने वाले निवेशकों के लिए गोल्ड बॉन्ड का भाव 3,785 रुपये प्रति ग्राम होगा.ये भी पढ़ें: धनतेरस पर हो सकती है सोने-चांदी की रिकार्ड बिक्री, यहां 3 फीसदी सस्ते में खरीदें सोने के सिक्केनवंबर 2015 में सरकार ने सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड लॉन्च किया थासरकार ने सबसे पहले सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड को नवंबर 2015 में लॉन्च किया था. इस गोल्ड बॉन्ड को जारी करने के पीछे सरकार का मकसद था कि बाजार में फिजिकल गोल्ड की मांग कम की जा सके.Loading… सरकार सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड 2019-20 के छठा सीरीजक्या है सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की खास बातें>> सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की सबसे खास बात यह है कि सोने की कीमतों में बढ़ोतरी होने पर आपको सीधे तौर पर फायदा मिलता है. इतना ही नहीं, इसपर सालाना 2.5 फीसदी का ब्याज भी मिलता है. इस ब्याज का भगुतान 6 महीने में होता है.>> आप भी सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में न्यूनतम 1 ग्राम का निवेश कर सकते हैं. वहीं, इसमें प्रतिवर्ष कोई एक व्यक्ति 500 ग्राम सोने में निवेश कर सकता है. हिंदू अविभाजित परिवार (HUF) के लिए निवेश की सीमा 4 किलोग्राम है. वहीं, ट्रस्ट के लिए निवेश की सीमा 20 किलोग्राम तय की गई है. इस बॉन्ड में भारतीय ना​गरिकों के अलावा ट्रस्ट, यूनिवसिर्टटी और चैरिटेबल संस्थान निवेश कर सकते हैं.ये भी पढ़ें: एक महीने में 1,900 रुपये सस्ता हो चुका सोना, जानिए कब है खरीदने का बेहतर मौका>> एक बार आपने इसमें निवेश कर दिया तो इसे आप बाजार में मौजूदा कीमत पर भुना सकते हैं. इस बॉन्ड को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) पर लिस्ट होना जरूरी है. इससे शेयर बाजार (Share Market) में लिक्विडिटी सुनिश्चित होती है.>> आपको बता दें कि अगर आप सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड को मैच्योरिटी तक होल्ड करते हैं तो इसपर आपको कोई कैपिटल गेंस टैक्स नहीं देना होगा. हालांकि, मैच्योरिटी की तारीख से पहले अगर आप एक्सचेंज के जरिए इसे बेचते हैं तो आपको इसपर टैक्स देना होगा. अगर आप सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड को खरीदने के 3 साल के अंदर बेचते हैं तो इसे शॉर्ट टर्म गेन माना जाता है. इस तरह की गेन को निवेशक की इनकम के तौर पर माना जाता है.ये भी पढ़ें: खुशखबरी! कल से SBI समेत सभी सरकारी बैंक आपके पास आकर देंगे सस्ते में लोन!
Source: News18 Money.com

Related posts

Leave a Comment