अगस्त में 10 महीने के उच्चतम स्तर पर पहुंची महंगाई, बिगड़ सकता है आपके घर का बजट

India oi-Ashutosh Ray |

Published: Wednesday, September 11, 2019, 13:10 [IST]
नई दिल्ली। आर्थिक मंदी के साथ-साथ देश में घरेलू सामान, ईंधन, भोजन, आदि जैसी विभिन्न वस्तुओं की खुदरा कीमतें अगस्त में 10 महीने के उच्चतम स्तर पहुंचने की संभावना है। कोटक इंस्टीट्यूशनल इक्विटीज रिसर्च के अनुसार, सीपीआई मुद्रास्फीति की दर जुलाई में 3.15 प्रतिशत थी, जो अगस्त में बढ़कर 3.23 प्रतिशत हो गई। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि बाजार को देखते हुए अगस्त में मुद्रास्फीति 3.35 प्रतिशत से अधिक हो सकती है। जुलाई में खुदरा मुद्रास्फीति की दर जून में 8 महीने के उच्च स्तर की तुलना में मामूली रूप से कम हुई है। वर्तमान हालात और रेपो दर में कटौती के बावजूद मुद्रास्फीति आरबीआई के तेरहवें महीने के लक्ष्य से 4 प्रतिशत नीचे रहने की संभावना है। कोटक की रिपोर्ट में यह भी अनुमान लगाया गया है कि जुलाई में औद्योगिक क्षेत्र में प्रोडक्शन में वृद्धि हुई है। जुलाई में प्रोडक्शन 2.3 प्रतिशत बढ़ा है। पिछले महीने की तुलना में इसमें 2 प्रतिशत का मामूली सुधार हुआ है। इससे पहले जून में, IIP की ग्रोथ घटकर 2% रह गई, जो एक साल पहले इसी महीने में 7% थी। मंदी का मुख्य कारण खनन और विनिर्माण क्षेत्र में कमजोरी थी। प्राइमरी वस्तुओं का विनिर्माण जून में सिर्फ 0.5 प्रतिशत बढ़ा, जो एक साल पहले 9.2 प्रतिशत था। वहीं इंफ्रास्ट्रक्चर और कंस्ट्रक्शन गुड्स की मैन्युफैक्चरिंग में 1.8 फीसदी की कमी आई है। महीने में पूंजीगत सामानों के निर्माण में भी काफी कमी आई थी। कोटक की रिपोर्ट में कहा गया है कि बाजार को उम्मीद है कि जुलाई में आईआईपी 2.6 फीसदी की दर से बढ़ सकता है। बता दें कि मंदी की दौर से गुजर रहे भारत की जीडीपी वृद्धि पहली तिमाही में 6 साल के निचले स्तर पर पहुंच गई है। इसके पीछे मुख्य रूप से प्रोडक्शन, कृषि और विनिर्माण क्षेत्र में कमजोर मांग की वजह से गिरावट देखने को मिली है। अब रेलवे स्टेशन पर फ्री में रिचार्ज होगा आपका मोबाइल, बस करना होगा ये काम
जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें – निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!
2014 से नहीं बढ़ी है महंगाई, लोगों का सवाल उठाना गलत-निर्मला सीतारमण थोक महंगाई के मोर्चे पर राहत की खबर, मई के मुकाबले जून में 2.2 फीसदी रही मंहगाई दर महंगाई के मोर्चे पर बुरी खबर, खुदरा के बाद थोक मुद्रास्फीति दर में इजाफा देश में थोक महंगाई दर बढ़ी, फरवरी में 2.93 फीसदी रही फरवरी में 4 महीने के उच्च स्तर 2.57% पर पहुंची खुदरा मुद्रास्फीति खुदरा के बाद अब बढ़ी थोक महंगाई दर, सितंबर में 5.13 फीसदी पर पहुंची देश की थोक महंगाई दर घटी, जुलाई में 5.09 फीसदी रही इस देश में ‘आसमान फाड़कर स्‍पेस’ में जा घुसी महंगाई, करोड़पति भी हैं दर-दर के भिखारी महंगाई के मोर्चे पर बुरी खबर, जून में खुदरा महंगाई दर बढ़ी 4 महीने के उच्चतम स्तर पर थोक महंगाई दर, अप्रैल 2018 में WPI 3.18 फीसदी 8 महीने के उच्चतम स्तर पर थोक महंगाई, नवंबर में 3.93 फीसदी रही दर रिटेल महंगाई दर में बढ़ोतरी, अक्टूबर में 3.58% हुई
Source: OneIndia Hindi

Related posts