केरल: 200 साल पुराने चर्च के पुजारियों ने शुरू की अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल, जानें पूरा मामला

Publish Date:Fri, 19 Jul 2019 09:34 AM (IST)

नई दिल्ली, एजेंसी। सिरो-मालाबार एर्नाकुलम द्वीपसमूह के पुजारियों ने गुरुवार को केरल में आर्कबिशप हाउस के अंदर अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल शुरू की और साथ ही चर्च के प्रमुख कार्डिनल जॉर्ज एलेनचेरी को हटाने की मांग की।
बिशप के घर के बाहर की स्थिति को बनाए रखने के लिए इलाके में पुलिस तैनात की गई है। इस महीने की शुरुआत में, एर्नाकुलम और अंगमाली द्वीपसमूह में चर्च के 261 पुजारियों ने विद्रोह शुरू किया था। दरअसल उन्होंने दो बिशपों के निलंबन को वापस लेने की मांग की थी।  साथ ही धमकी दी थी कि यदि उनकी मांग नहीं मानी गई तो वह विरोध प्रदर्शन तेज कर देंगे। 
 पुजारियों ने कहा कि कार्डिनल (जो 14 मामलों में आरोपी है) को अगस्त में निर्धारित बिशप की धर्मसभा बैठक की अध्यक्षता नहीं करनी चाहिए। कार्डिनल एलेनचेरी पर एक संदिग्ध भूमि सौदे में जालसाजी का आरोप लगाया गया है। जून 2018 में विवादों में आने के बाद से 200 वर्षीय पुराना यह चर्च विवादों में आ गया। भूमि घोटाले के विवादों के बाद, वेटिकन ने एलेनचेरी को आर्चबिशप के रूप में हटा दिया था, हालांकि, उन्हें इस साल 23 जून को एर्नाकुलम अभिलेखागार के प्रमुख के रूप में उन्हें फिर से बहाल कर दिया है।

घटनाओं के एक नाटकीय मोड़ में, पुजारी जिनके पास एक पेशेवर संघ भी नहीं है, कार्डिनल को उसके पद पर वापस भेजने के लिए उत्सुक हैं।  उन्होंने यह भी कहा कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं होती वो विरोध वापस नहीं लेंगे। दल के प्रवक्ता फादर जोस वेलिकोडाथ ने बताया कि हम कार्डिनल से मिले। वह हमें इस बात पर संतोषजनक उत्तर देने में असमर्थ था कि वह प्रशासनिक शक्तियों को कैसे वापस ले पाए और दो बिशपों के निलंबन के कारण के बारे में भी। हमने तब अनिश्चितकालीन विरोध शुरू करने का फैसला किया। उत्तेजित पुजारियों ने कार्डिनल को बदनाम करने के लिए फर्जी दस्तावेज बनाने के आरोप में वरिष्ठ पुजारियों के खिलाफ दर्ज मामले को वापस लेने की भी मांग की है।
Posted By: Ayushi Tyagi

Source: Jagran.com

Related posts

Leave a Comment