पाकिस्तान को माकूल जवाब देने के लिए जरूरी, हम बार-बार बालाकोट एयरस्ट्राइक करें- पूर्व सेना प्रमुख

India oi-Ankur Singh |

Published: Sunday, July 14, 2019, 11:43 [IST]
नई दिल्ली। पाकिस्तान के खिलाफ कारगिल युद्ध को 20 वर्ष पूरे हो गए हैं, इस मौके पर आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान बोलते हुए सेना के पूर्व मुखिया ने कहा कि हमे पाकिस्तान पर बालाकोट स्ट्राइक की तरह और स्ट्राइक करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि जब केंद्र में वाजपेयी सरकार थी तो सरकार ने फैसला लिया था कि एलओसी को युद्ध के दौरान पार नहीं किया जाएगा, लेकिन मैंने पीएम से अपील की थी कि वह इसका ऐलान सार्वजनिक तौर पर ना करें। की थी अपील पूर्व सेना प्रमुख जनरल वीपी मलिक ने कहा कि उस वक्त हमे जरूरत थी कि बालाकोट स्ट्राइक की तरह हम कई स्ट्राइक करते, जिससे कि हमारी निर्णायक क्षमता का उन्हें अंदाजा होता और पाकिस्तान को यह संदेश जाता कि भारत भी जवाद देना जानता है। मलिक ने बताया कि कैबिनेट कमेटी ने वाजपेयी सरकार में फैसला लिया था कि एलओसी को पार नहीं करना है और इसे सार्वजनिक कर दिया गया था। उन्होंने कहा कि वाजपेयी ने भी 2 जून 1999 में चेन्नई में इस बारे में बात की थी, जब मैंने उनसे मुलाकात की तो मैंने कहा था कि हम जनता के फैसले को मानेंगे लेकिन आप सार्वजनिक तौर पर यह ना कहें। वाजयेपीय ने पूछा आखिर क्यों बता दें कि कारगिल युद्ध के दौरान जनरल मलिक ने भारतीय सेना की अगुवाई की थी। जनरल ने कहा कि पीएम ने मुझसे इसकी वजह पूछी थी, जिसपर मैंने जवाब दिया था कि हम अपनी पूरी कोशिश करेंगे कि जो कारगिल में हुआ वह फिर ना हो, लेकिन अगर हम पूरा परिणाम हासिल नहीं कर सके तो सेना के लिहाज से हमारे पास एलओसी पार करने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। अगर हमे इसकी जरूरत पड़ी तो मैं आपके पास आउंगा और आपसे इस बारे में पूछूंगा। टीवी इंटरव्यू ने की मदद जनरल मलिक ने कहा कि हम दोनों के बीच यह बात साउथ ब्लॉक के कॉरिडोर में हो रही थी। इस वक्त वाजपेयी जी ने कुछ नहीं कहा और कुछ सेकेंड के लिए चुप रहे। लेकिन उस दिन शाम को उनके मुख्य सचिव और एनएसए बृजेश मिश्रा ने एक टीवी चैनल को इंटरव्यू दिया। इस इंटरव्यू में उन्होंने जानबूझकर कहा कि एलओसी का पार नहीं करना आज के लिहाज से अच्छा है, लेकिन कल के बारे में हमे नहीं पता है। उनके इस बयान के बाद हमे हमारी सैन्य रणनीति बनाने में काफी मदद मिली। भारतीय सेना ने कारगिल ऑपरेशन के दौरान सीमा को पार नहीं किया । इसे भी पढ़ें- अमृतसर: करतारपुर कॉरिडोर मुद्दे पर भारत-पाक के बीच चल रही है वार्ता
जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें – निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!
सेना प्रमुख जनरल रावत ने कहा लद्दाख में चीन ने नहीं की थी कोई घुसपैठ सेना प्रमुख जनरल रावत बोले, कारगिल में बुरी हार के बाद भी नहीं सुधरा पाकिस्‍तान सेना के सूत्रों का दावा: चीनी सेना ने लद्दाख में नहीं की घुसपैठ, LAC के उस पार से दिखाए थे बैनर VIDEO : तिरंगे में लिपटकर घर आया फौजी बेटा, 4 माह से लेह लद्दाख की बर्फ में दबा था शव इजरायल से एंटी टैंक स्पाईक मिसाइल खरीदेगा भारत, 4 किमी दूर के बंकर को कर सकती है तबाह इंडियन आर्मी ने पेश की मिसाल, PoK से बहकर आए सात साल के बच्‍चे का शव पाक आर्मी को सौंपा जम्मू-कश्मीर में गश्त कर रहे फौजी की जान गई, बिलख रहीं पत्नी-पुत्री, 3 बहनों ने खोया इकलौता भाई अल कायदा चीफ जवाहिरी ने कश्‍मीर में आतंकियों से कहा, इंडियन आर्मी पर करो ज्‍यादा हमले अप्रैल 2020 तक सेना को मिलेंगी 1.86 लाख बुलेट प्रूफ जैकेट्स, रक्षा मंत्री ने दी संसद में जानकारी WhatsApp को लेकर सेना ने जारी की चेतावनी, पाक खुफिया एजेंसियों के निशाने पर अफसर जम्‍मू कश्‍मीर: कुपवाड़ा में LoC के करीब ब्‍लास्‍ट, सेना का जवान जख्‍मी अब पाकिस्‍तान की खैर नहीं, भारत खरीद रहा है ये खतरनाक हथियार, जानिए क्‍या है खासियत
Source: OneIndia Hindi

Related posts