जावेद अख्तर ने कहा-हम आखिर धोनी के संन्यास की बात ही क्यों कर रहे हैं?

हम आखिर धोनी के संन्यास की बात क्यों कर रहे हैं? जावेद अख्तर ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा है कि एम एस धोनी मध्य क्रम के बल्लेबाज और विकेटकीपर के रूप में एक भरोसेमंद प्लेयर हैं, विराट कोहली को इस बात की समझ है कि क्रिकेट को लेकर धोनी की समझ टीम के लिए फायदेमंद है, यह कोई भी देख सकता है कि अभी भी बहुत सारा क्रिकेट धोनी में बाकी है, हम उनके रिटायरमेंट के बारे में बात ही क्यों कर रहे हैं’ यह पढ़ें: संन्यास के ऐलान के बाद महेंद्र सिंह धोनी भाजपा संग करेंगे राजनीतिक पारी की शुरूआत, पूर्व मंत्री का दावा As a middle order batsman or a WK M S Dhoni is a totally dependable n trustworthy. Virat is graceful enough to accept that Dhoni’s understanding of game is an advantage for the team .One can see that a lot of cricket is still left in Him . Why even talk about his retirement
— Javed Akhtar (@Javedakhtarjadu) July 12, 2019 जावेद अख्तर से पहले लता मंगेशकर ने थी माही से अपील जबकि इससे पहले भारत की स्वर कोकिला लता मंगेशकर ने भी धोनी से संन्यास ना लेने की अपील की थी, लता मंगेशकर ने भी ट्विटर पर लिखा था कि नमस्कार एमएस धोनी जी, आज कल मैं सुन रही हूं कि आप रिटायर होना चाहते हैं। कृपया आप ऐसा मत सोचिए, देश को आपके खेल की जरूरत है और ये मेरी भी अपील है कि रिटायरमेंट का विचार भी आप मन में मत लाइए। Namaskar M S Dhoni ji.Aaj kal main sun rahi hun ke Aap retire hona chahte hain.Kripaya aap aisa mat sochiye.Desh ko aap ke khel ki zaroorat hai aur ye meri bhi request hai ki Retirement ka vichar bhi aap mann mein mat [email protected]
— Lata Mangeshkar (@mangeshkarlata) July 11, 2019 धोनी का नाम ही काफी है विश्वकप में सेमीफाइनल में हारने के बाद टीम इंडिया ओर धोनी के लिए केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने भी सोशल मीडिया पर अपनी भावनाएं जाहिर की थीं, स्मृति ईरानी ने इंस्टाग्राम पर अपना स्टेटस साझा करते हुए लिखा कि आपको पता है धोनी की सबसे बड़ी उपलब्धि क्या है। पांच रन पर तीन विकेट गिर जाने के बाद भी देश के 1.25 करोड़ लोगों को उनसे उम्मीद थी, यही उम्मीद उनकी सबसे बड़ी उपलब्धि है। अपने अगले स्टेटस में ईरानी ने लिखा की धोनी नाम ही काफी है। राजनीति में आ सकते हैं धोनी धोनी के संन्यास की खबरों के बीच यह भी कयास लगाए जा रहे हैं कि धोनी क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद राजनीति में अपना हाथ आजमा सकते हैं। न्यूज 18 की खबर के मुताबिक धोनी संन्यास के बाद भाजपा में शामिल होकर अपनी राजनीतिक पारी की शुरूआत कर सकते हैं, चैनल का माने तो बिहार बीजेपी के एक बड़े नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री संजय पासवान ने कहा है कि धोनी भाजपा की सदस्यता ग्रहण करें, इसके लिए कई बार उनसे बात की गई है और बहुत जल्द ही औपचारिक तौर पर इस बात का ऐलान हो सकता है।
Source: OneIndia Hindi

Related posts