महाराष्ट्र सरकार ने नेवी को लिखा खत, कहा- कृत्रिम रीफ के लिए डुबो दो युद्धपोत

कृत्रिम रीफ से स्थानीय समुदाय के लिए हज़ारों रोज़गार पैदा होंगे महाराष्ट्र सरकार की सचिव विनीता सिंगल द्वारा लिखे गए खत में कहा गया है, युद्धपोत INS गंगा से बनने वाली कृत्रिम रीफ से स्थानीय समुदाय के लिए हज़ारों रोज़गार पैदा होंगे, तथा रीजनल इकोनॉमी में 100 करोड़ रुपये प्रतिवर्ष से भी ज़्यादा की बढ़ोतरी होगी। महाराष्ट्र सरकार के इस लेटर में बताया गया है कि कृत्रिम रीफ तैयार करना ‘स्वीकार्य कदम है,’ जिसे इनवायरमेंट के प्रति उत्तरदायित्व प्रदर्शित करने वाले तथा लोकल टूरिज्म इकोनॉमी को बढ़ोतरी देने वाले कदम के रूप में देखा जाता है। नौसेना आईएनएस विराट को डुबाने की बात कर चुकी है यह पहली बार नहीं है कि नौसेना एक युद्धपोत को डुबोने के प्रस्ताव पर विचार कर रही है। एनडीटीवी में छपी खबर के मुताबिक, पूर्व नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लान्बा ने कहा था कि, नौसेना डीकमीशन किए जा चुके INS विराट को फ्लोटिंग म्यूजियम में तब्दील करने की इच्छुक है, या इसे किसी बड़े पर्यटन हार्बर पर ले जाकर डुबो दिया जाए, ताकि यह डाइव साइट में बदला जा सके, और मरीन संग्राहलय के रूप में तैयार हो सके। तिहाड़ में बंद हरियाणा के पूर्व CM चौटाला की सेल से मिला मोबाइल, जांच शुरू अमेरिका डुबो चुका है कई जहाज एडमिरल को लिखे खत में कहा गया है, जब बड़े जहाज़ डुबोए जाते हैं, वे मछलियों, कोरल, स्पॉन्ज, सी-फैन आदि के लिए कृत्रिम रिहाइश बन जाते हैं, और सालभर के भीतर यह किसी कोरल रीफ की तरह बिल्कुल स्वतंत्र ईको-सिस्टम बन जाता है।अमेरिका में 850 से ज़्यादा पोत कृत्रिम रीफ की तरह इस्तेमाल किया जा चुका है। अमेरिका के फ्लोरिडा में नौसैनिक पोतों को डुबोकर कृत्रिम रीफ बनाए जाने से हर साल पर्यटन क्षेत्र को 95 मिलियन डॉलर से भी ज़्यादा का योगदान हासिल होता है। महाराष्ट्र सरकार के प्रस्ताव में डीकमीशन किए गए INS गंगा को डुबो देने से हो सकने वाले आठ खास फायदे बताए गए हैं।
Source: OneIndia Hindi

Related posts