इनकम टैक्स विभाग से आया है नोटिस तो न घबराएं, ऐसे दें उसका जवाब

Publish Date:Fri, 14 Jun 2019 06:10 PM (IST)

नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। आज के समय में इनकम टैक्स ऑफिसर इनकम टैक्स रिटर्न में छोटी-छोटी कमियों के लिए नोटिस भेज रहे हैं। इनकम टैक्स नोटिस के प्रकार और उसका कारण समझे बिना कई बार टैक्सपेयर डर जाते हैं, लेकिन ध्यान देने वाली बात यह है कि अधिकतर नोटिस सिर्फ टैक्सपेयर से स्पष्टीकरण चाहने के लिए भेजे जाते हैं। आज हम टैक्सपेयर को आने वाले 4 अलग-अलग प्रकार के कर नोटिसों के बारे में बता रहे हैं और उन्हें इसका जवाब कैसे देना चाहिए इसके बारे में भी जानेंगे।
ये भी पढ़ें: बैंक अकाउंट बंद करवाने का ये है प्रोसेस, जानेंगे तो नहीं होगी परेशानी
धारा 131 (1 ए) के तहत नोटिस
अगर एसेसिंग ऑफिसर (AO) को लगता है कि आप इनकम छिपा रहे हैं तो आपको नोटिस मिल सकता है। यह एक प्रकार की जानकारी है कि AO मामले की जांच शुरू कर रहा है। टैक्सपेयर www.incometaxindiaefilling.gov.in की वेबसाइट पर लॉगिन करके इस टैक्स नोटिस का जवाब दे सकते हैं। अगर आपके पास सभी डॉक्यूमेंट्स नहीं हैं तो आपके पास जो भी हैं उन्हें टाइम लिमिट के अंदर आवेदन के साथ भेजें और अधिक समय की मांग करें

ये भी पढ़ें: पर्सनल लोन पर कितना लगेगा ब्याज, इन बातों से होगा तय
धारा 139 (9) के तहत नोटिस

अगर AO को लगता है कि टैक्सपेयर की तरफ से दायर आईटीआर गलत है तो ऐसे नोटिस जारी भेजे जा सकते हैं। ऐसी स्थिति में एओ गलती के बारे में बताता है और उसे ठीक करने का समाधान भी देता है। इसके जवाब के लिए 15 दिनों का समय मिलता है। अगर तय समय में नोटिस का जवाब नहीं दिया जाता है तो रिटर्न खारिज हो जाता है।
ये भी पढ़ें: पैसों की है इमरजेंसी और जेब भी है खाली तो आजमाएं ये उपाय, आसानी से हो जाएंगे काम

धारा 142 (1) के तहत नोटिस
ऐसे नोटिस आकलन से पहले जांच के लिए एक सूचना के तौर पर भेजे जाते हैं। अगर आपने किसी असेसमेंट ईयर के लिए रिटर्न समय पर दाखिल नहीं किया है तो आपको यह नोटिस मिल सकता है। इस नोटिस में आगे की जानकारी और डॉक्यूमेंट्स की डिमांड की जाती है। ऐसी स्थिति में जिन डॉक्यूमेंट्स की डिमांड की गई है उन्हें तय समय सीमा में जमा करवाना जरूरी है।

धारा 143 (1) के तहत नोटिस
ऐसे नोटिस टैक्सपेयर को तब भेजे जाते हैं जब कोई टैक्स या ब्याज देय या वापसी के लायक है। अगर रिटर्न की गणना में कोई गलती है तो यह एक्स्ट्रा टैक्स या अन्य जरूरी बदलावों की डिमांड के लिए नोटिस है। ऐसी स्थिति में आपके तरफ से दायर रिटर्न की जानकारी और एओ की तरफ से की गई गणना शामिल होगी। इसी नोटिस का जवाब आपको 30 दिनों में देना होगा।  
लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप
Posted By: Sajan Chauhan

Source: jagran.com

Related posts