मोदी गुफा में आप भी लगा सकते हैं ध्यान, हजार रुपये से भी कम होंगे खर्च; यहां मिलेगी पूरी जानकारी

Publish Date:Mon, 20 May 2019 02:49 PM (IST)

देहरादून, [जागरण स्पेशल]। गर्मियों का मौसम। देश के मैदानी इलाकों में प्रचंड गर्मी। बच्चों के स्कूल की छुट्टियां और उत्तराखंड की वादियां। इन सबका आपस में बड़ा गहरा संबंध है। इसके अलावा उत्तराखंड में इसी दौरान चारधाम की यात्रा भी होती है। श्रद्धालु इस दौरान बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री की धार्मिक यात्रा करके न सिर्फ पुण्य कमाते हैं बल्कि गर्मी के मौसम में ठंडी वादियों के दिव्य दर्शन भी करते हैं। चुनावी गहमागहमी थमने के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने भी उत्तराखंड का ही रास्ता चुना। यहां उन्होंने एक गुफा में करीब 17 घंटे एकांतवास में बिताए। आप भी उस गुफा में कुछ दिन गुजार सकते हैं।
पीएम मोदी का चैप्टरदेश में 11 अप्रैल से 19 मई के बीच सात चरणों में मतदान हुआ। पहले चरण से पहले ही चुनावी रैलियां शुरू हो गई थीं और पीएम मोदी ही भाजपा के सबसे बड़े स्टार प्रचारक रहे। इस दौरान उन्होंने देशभर में यात्राएं कीं और अपने व एनडीए की सहयोगी पार्टियों के प्रत्याशियों के लिए जमकर प्रचार किया। इसमें रोडशो भी शामिल रहे। इस दौरान प्रधानमंत्री के तौर पर वे अपनी जिम्मेदारियों को भी निभाते रहे। फिर 17 मई को जैसे ही अंतिम चरण के मतदान के लिए प्रचार का शोर थमा, वैसे ही उन्होंने केदारनाथ की ओर रुख किया। यहां पीएम मोदी ने करीब 17 घंटे तक एक गुफा में योग-ध्यान किया। उन्होंने 18 मई को बाबा केदारनाथ के दर्शन किए और फिर 19 मई को बदरीनाथ पहुंचकर भगवान बदरी विशाल के आगे शीश नवाया। बता दें कि इसी दिन यानि 19 मई को ही अंतिम चरण का मतदान भी था और इसी चरण में वाराणसी से पीएम मोदी भी उम्मीदवार थे।

गुफा के बारे में…इस गुफा का नाम रुद्र मेडिटेशन केव रखा गया है। इसे पहाड़ पर चट्टानें काटकर बनाया गया है। इस गुफा के निर्माण में साढ़े 8 लाख रुपये खर्च किए गए हैं। बता दें कि खास तौर पर पीएम मोदी के आगमन के लिए यहां CCTV लगाया गया था। प्रधानमंत्री के आने से पहले गुफा के बाहर कैंप लगाकर कई सुरक्षा गार्ड्स की व्यवस्था भी करवाई गई। 5 मीटर लंबी और 3 मीटर चौड़ी यह गुफा 3583 मीटर यानि करीब 12 हजार फिट की ऊंचाई पर है। बता दें कि इस गुफा को खास तौर पर पर्यटकों के लिए ही बनाया गया है। वैसे तो गुफा पिछले साल ही बनकर तैयार हो गई थी, लेकिन इसे बुकिंग कम ही मिल रही थीं। अब उम्मीद की जा रही है कि पीएम मोदी के योग-साधना के बाद यहां पर्यटकों की संख्या बढ़ेगी।

जुड़ गया टूरिज्म का चैप्टरजिस गुफा में पीएम नरेंद्र मोदी ने करीब 17 घंटे एकांतवास में बिताए वहां अब आप भी जा सकते हैं। गढ़वाल मंडल विकास निगम (GMVN) ने अब उसी गुफा को टूरिज्म के लिए खोल दिया है। यानि आप भी वहां जाकर रह सकते हैं। GMVN ने इस गुफा के लिए ऑनलाइन बुकिंग शुरू की है। यही नहीं इसके लिए निगम ने अपनी वेबसाइट पर दिशा-निर्देश भी जारी कर दिए हैं। बता दें कि पिछले ही साल सरकार ने केदारनाथ के पुनर्निर्माण के तहत भैरवनाथ मंदिर के सामने इस प्राचीन गुफा को ध्यान के लिए तैयार किया था। प्रधानमंत्री मोदी के यहां आकर योग-ध्यान करने के बाद देशभर से लोग GMVN से यहां के बारे में जानने को उत्सुक दिख रहे हैं।

कब कर सकते हैं यहां की यात्राप्रयटन को बढ़ावा देने के लिए GMVN ने इस गुफा तक देशभर से लोगों को पहुंचाने की योजना बनाई है। निगम के अनुसार पूरे यात्रा सीजन तक इस गुफा को ध्यान के लिए बुकिंग की जा सकती है। यानि इस साल जब तक चारधाम यात्रा चलेगी, तब तक आप इस गुफा को भी बुक करा सकते हैं।

कितने रुपये होंगे खर्चपीएम मोदी ने जिस गुफा में योग-साधना की वहां जाने का मन तो आपने बना ही लिया है। अब बात आती है इसमें खर्च कितना होगा। बता दें कि अगर आप इस गुफा को बुक करना चाहते हैं तो GMVN आपसे प्रतिदिन 990 रुपये किराया लेगा। इसके साथ ही यह भी बता दें कि कोई भी पर्यटक गुफा को 3 दिन से ज्यादा समय के लिए बुक नहीं करवा सकता। अगर आप चाहते हैं कि आप इससे ज्यादा समय तक इस गुफा में रहें तो आपको इसके लिए नए सिरे से अनुमति की औपचारिकताएं पूरी करनी पड़ेगी। ध्यान रहे कि गुफा में एक समय में सिर्फ एक ही इंसान ध्यान लगाने जा सकेगा। एक बार बुकिंग हो जाने के बाद पैसा रिफंड नहीं किया जाएगा, भले ही आप गुफा में रहना चाहें या न चाहें।

फिट होंगे तभी गुफा में जा पाएंगेअगर आप यहां जाने का प्लान बना रहे हैं तो बता दें कि इसके लिए आपको शारीरिक तौर पर पूरी तरह से स्वस्थ होना पड़ेगा। मेडिकल जांच के बाद ही आपको इस गुफा में योग-ध्यान करने के लिए अनुमति मिलेगी। GMVN ने ध्यान गुफा की बुकिंग कराने वालों के लिए गुप्तकाशी में मेडिकल कराने की सुविधा मुहैया कराई है। अगर आप इस गुफा में योग-ध्यान करना चाहते हैं तो आपको ऑनलाइन बुकिंग के बाद यात्रा से दो दिन पहले ही गुप्तकाशी में मेडिकल जांच करानी होगी।

अब बात गुफा में सुविधाओं कीइस ध्यान गुफा में बिजली और पानी की मूलभूत सुविधा तो है ही। इसके अलावा सुबह की चाय, ब्रेक फास्ट, दिन में लंच, शाम की चाय और डिनर भी उपलब्ध कराया जाएगा। यही नहीं चौबीसों घंटे GMVN का स्टाफ गुफा में सेवा देने को तैयार रहेगा। इसके लिए लोकल फोन की व्यवस्था भी दी गई है।

एक नहीं चार और गुफाएं होंगी तैयार केदारनाथ धाम में चार प्राचीन गुफाएं जीर्ण-शीर्ण हालत में हैं। इन गुफाओं में भी निगम जिला प्रशासन की मदद से सुधार कार्य कराएगा। इसमें प्राचीन स्वरूप को बरकरार रख वहां पर सुविधाएं जुटाई जाएंगी। गरुड़ चट्टी से लेकर गांधी सरोवर के बीच यह गुफाएं बनाई जाएंगी।
कैसे पहुंचे गुफा तकरुद्र मेडिटेशन केव तक पहुंचने के लिए आपको वही रास्ता चुनना है जो रास्ता केदारनाथ पहुंचने के लिए है। यहां जाने के लिए आप हवाई जहाज से देहरादून स्थित जॉलीग्रांट एयरपोर्ट पहुंच सकते हैं। यहां से हेलिकॉप्टर और सड़क मार्ग के जरिए भी केदारनाथ पहुंचा जा सकता है। इसके अलावा ट्रेन से हरिद्वार पहुंचने के बाद यहां सड़क मार्ग के जरिए केदारनाथ पहुंच सकते हैं। केदारनाथ मंदिर से इस गुफा की दूरी मजह 1.5 किलोमीटर है और यहां तक आपको पैदल ही जाना होगा।
– इनपुट संतोष भट्ट
लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप
Posted By: Digpal Singh

Source: Jagran.com

Related posts

Leave a Comment