चुनाव आयोग प्रचार की रोक हटाए, योगी ने सिर्फ अपने आराध्य का नाम लिया : पांडेय

नई दिल्ली: बीजेपी ने निर्वाचन आयोग से योगी आदित्यनाथ पर 72 घंटे का लगा प्रतिबंध हटाने की मांग की है. आयोग ने ‘उनके अली तो हमारे बजरंगबली’ कहकर सांप्रदायिक ध्रुवीकरण के प्रयास की शिकायत पर कार्रवाई की है. भाजपा के स्टार प्रचारक योगी अभी चुनाव प्रचार व प्रेसवार्ता नहीं कर पाएंगे.#Jayaprada जी के ऊपर घटिया और अशोभनीय टिप्पणी #AzamKhan की सोच और व्यक्तित्व को दिखाता है। इस पर @yadavakhilesh जी की चुप्पी शर्मनाक है ही, पर स्वयं एक महिला होते हुए @Mayawati जी का मौन बताता है कि सत्ता के लिए ये लोग कुछ भी करने और सहने को तैयार है।Shame!— Chowkidar Yogi Adityanath (@myogiadityanath) April 15, 2019बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडेय ने कहा, “हमारी पार्टी एक अनुशासित राजनीतिक दल है और हम भारतीय निर्वाचन आयोग के हर निर्णय का सम्मान करते हैं. लेकिन उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहीं भी किसी भी प्रकार से न तो कहीं धार्मिक भावनाओं को भड़काने का काम किया और न ही धार्मिक उन्माद फैलाने वाला बयान दिया. बल्कि योगी ने सिर्फ अपने आराध्य का नाम लिया है.[embedded content]पांडेय ने कहा कि दूसरी तरफ बीएसपी प्रमुख मायावती और सपा नेता आजम खान ने धार्मिक आधार पर वोट मांगा और वोटों के लिए धार्मिक उन्माद भी फैलाने का प्रयास किया. आजम खान ने तो सामान्य मानवीय मूल्यों की पराकाष्ठा पार करते हुए अभद्र व अमर्यादित भाषा का उपयोग किया. कार्रवाई तो ऐसे लोगों के खिलाफ होनी चाहिए, न कि मुख्यमंत्री योगी के खिलाफ. उन्होंने निर्वाचन आयोग से अपील की है कि मुख्यमंत्री योगी पर 72 घंटे का प्रतिबंध लगाए जाने के अपने निर्णय पर पुनर्विचार करते हुए प्रतिबंध को समाप्त करे. निर्वाचन आयोग ने मायावती पर भी 48 घंटे का प्रतिबंध लगाया है और आजम खान के खिलाफ मामला दर्ज हो चुका है.रामनवमी के पावन पर्व पर श्री गोरखनाथ मंदिर में गोरक्षपीठाधीश्वर महंत श्री योगी आदित्यनाथ जी महाराज द्वारा कन्या पूजन। pic.twitter.com/ymtzIKQnjc— Gorakhnath Mandir (@GorakhnathMndr) April 13, 2019बता दें कि मुख्यमंत्री योगी ने बीते दिनों चुनावी जनसभाओं में विपक्षी दलों पर हमला बोला था. उन्होंने ‘अली-बजरंगबली’ वाला बयान देने के अलावा भारत की सेना को ‘मोदीजी की सेना’ कहा था. इसका संज्ञान लेते हुए निर्वाचन आयोग ने सोमवार को योगी पर जनसभा या प्रेसवार्ता करने पर 16 अप्रैल की सुबह 6 बजे से 72 घंटे के लिए प्रतिबंध लगा दिया है.
Source: HW News

Related posts