पाकिस्तान में मंत्री ने की हिंदुओं के खिलाफ टिप्पणी, इमरान खान ने पद से हटाया

अजहर पर प्रतिबंध लगने के बाद उसकी वैश्विक यात्राओं पर रोक लगने के साथ साथ उसकी संपत्तियां और पहले से रखे हथियार जब्त हो सकेंगे. बीते दस सालों में संयुक्त राष्ट्र में अजहर को प्रतिबंधित करने का यह चौथा प्रयास होगा.
नई दिल्ली: आतंकी हाफिज सईद के संगठन जमात उद दावा (जेयूडी) और उससे जुड़ी संस्था फला ए इंसानियत फाउंडेशन (एफआईएफ) को मंगलवार को प्रतिबंधित संगठनों की सूची में औपचारिक रूप से डाला गया. यह कदम ऐसे समय में उठाया गया है जब भारतीय मीडिया ने सोमवार को खबर दी थी कि ये दोनों संगठन केवल निगरानी वाली सूची में बने हुए हैं.

भारतीय वायुसेना का निशाना कभी चूक नहीं सकता। जिनको संख्या जानना है वे पाकिस्तान जाकर गिन सकते हैं। pic.twitter.com/jVnEebQzQP
— Rajnath Singh (@rajnathsingh) March 5, 2019

पाकिस्तान के राष्ट्रीय आतंकवाद निरोधक प्राधिकरण (एनसीटीए) की मंगलवार को अपडेटेड सूची के अनुसार, जेयूडी और एफआईएफ उन 70 संगठनों में शामिल हैं जिन पर गृह मंत्रालय ने आतंकवाद रोधी कानून 1997 के तहत पाबंदी लगाई है. सूची के नीचे लिखा है, ‘यह सूची पांच मार्च 2019 तक अपडेटेड है और इसे एनसीटीए ने गृह मंत्रालय द्वारा जारी अधिसूचनाओं के आधार पर तैयार किया है.’
[embedded content]
आतंकी गतिविधियों में शामिल दोनों संगठनों पर प्रतिबंध लगाने के साथ ही पाकिस्तान ने पुलवामा में आतंकवादी हमले के लिए जिम्मेदार संगठन जैश ए मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर के बेटे और भाई पर एक्शन लिया. प्रशासन ने बेटे और भाई सहित प्रतिबंधित आतंकवादी संगठनों के 44 सदस्यों को मंगलवार को हिरासत में ले लिया.

हमारे देश का दुर्भाग्य है कि यहां कुछ ऐसे लोग हैं, जिन्हें पुलवामा में हुआ आतंकी हमला एक दुर्घटना लगता है।
ये वही महोदय हैं, जिनको ओसामा भी शांतिदूत लगता था और जिन्होंने 26/11 के आतंकी हमले में भी पाकिस्तान को क्लीन चिट दे दी थी और जांच की दिशा को भटकाने का प्रयास किया था: पीएम pic.twitter.com/LIk24sDotv
— BJP (@BJP4India) March 5, 2019

मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के लिए भारत, चीन सहित सुरक्षा परिषद के अन्य 14 सदस्यों से मिलकर अपनी बात रखेगा. आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी. वैश्विक आतंकी घोषित करने का एक प्रस्ताव अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के समक्ष बीते सप्ताह रखा था. सूत्रों ने बताया कि परिषद के सदस्य इस प्रस्ताव पर थोड़ा और स्पष्टीकरण चाहते हैं.
Source: HW News

Related posts