दिल्ली एयरपोर्ट के Park N Fly में कार पार्क करना पड़ा महंगा, गायब हुए चारों टायर

Publish Date:Wed, 06 Mar 2019 01:44 PM (IST)

नई दिल्ली (ऑटो डेस्क)। अपनी कार को पार्क करने के लिए सुरक्षित स्थान की तलाश करना किसी मेट्रो शहर में एक अत्यंत कठिन काम से कम नहीं है। कार पार्क करने के लिए अगर स्पेस भी मिल जाए तो इसके बाद सुरक्षा चिताओं पर ध्यान देने लगते हैं। वहीं, अगर आपको ऐसी पार्किंग मिल जाए जहां गार्ड और CCTV की निगरानी है, तो आप सोचते हैं कि यह एक सुरक्षित स्थान है और ऐसे में आप अपनी कार पार्क कर देते हैं और इसके लिए उचित भुगतान भी कर देते हैं, ताकि निश्चिंत होकर हम आपने आगे के कार्य कर सकें।
अब जब आप अपने काम निपटाकर पार्किंग लॉट में जाते हैं और वहां देखते हैं कि आपका वाहन चोरी हो गया है या फिर पार्किंग में से आपके वाहन के कुछ पार्ट्स निकाल लिए हैं, तो कैसा लगेगा? यह देखकर हर कोई सन्न रह जाएगा। जी हां, ऐसा ही एक मामला तेजी से सोशल मीडिया फेसबुक पर फैल रहा है। इसमें दिल्ली की रहने वाली रेनू मेहता ने अपने फेसबुक हैंडल पर बताया कि उसने दिल्ली एयरपोर्ट के T3 की ‘Park N Fly’ की सुविधा का इस्तेमाल किया, जहां सबसे सुरक्षित पार्किंग जोन का दावा किया जाता है।

रेनू के अनुसार उसने पार्किंग जोन में अपनी कार 3:40 Am पर पार्क की और जब वह वापिस आती हैं तो उन्हें क्या मिलता है कि उनके कार के टायर्स चोरी हो गए हैं। इस बारे में वह पूरी घटना की CCTV फुटेज की जांच के लिए संबंधित व्यक्ति के पास पहुंची और उस फुटेज में महिला ने पाया कि एक Uber ड्राइवर में पहचाने जाने वाले एक चोर ने पार्किंग में प्रवेश किया उसने कार चेक की और पार्किंग से चला गया। इसके बाद वह वापिस आता है और एक बड़ा कार के टायर्स निकालने के लिए एक बड़ा पत्थर लेकर आता है और कार के टायर्स निकाल लेता है।

इस घटना से गुस्साई रेनू ने फेसबुक पोस्ट में अपनी पूरी आपबीती सुनाई और उन्होंने कहा, “ना तो GRM और ना ही दिल्ली एयरपोर्ट पार्किंग सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड जिम्मेदारी लेने को तैयार है। यहां तक कि GRM कर्मचारी (CCTV मॉनिटरिंग मैन) में से एक ने तो यह कह दिया कि तो क्या हुआ, यह सिर्फ सुरक्षा का उल्लघंन था, पुलवामा में भी तो ऐसा ही हुआ।”
हालांकि, उसकी इसी पोस्ट ने जल्द ही दिल्ली एयरपोर्ट पार्किंग सर्विसेज का ध्यान आकर्षित किया और उन्होंने उसे जवाब देते हुए कहा, “हम जांच में पुलिस की सहायता कर रहे हैं और साथ ही साथ तार्किक रूप से बंद करने के मामले का भी बारीकी से पालन कर रहे हैं। हम फिर से हुई असुविधा के लिए खेद व्यक्त करते हैं।”

इसमें सबसे पहली बात कि पार्किंग जोन में पार्किंग अपनी जिम्मेदारी नहीं ले सकती। वहीं, दूसरी ओर किस तरह से पुलवामा घटना के सुरक्षा उल्लंघन की तुलना करने की हिम्मत ऐसे लोग करते हैं। कितना असंवेदनशील और बेशर्म व्यवहार रहा।

[embedded content]

यह भी पढ़ें:
Alto से Swift तक, Maruti Suzuki Arena मार्च महीने में इन कारों पर दे रही है भारी डिस्काउंट

इलेक्ट्रिक वाहनों के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से मांगा जवाब
Posted By: Ankit Dubey

Source: jagran.com

Related posts