विदेश मंत्री के बयान से अपने ही जाल में घिरा पाक, यूएन में अजहर के खिलाफ भारत का दावा हुआ मजबूत

पाक विदेश मंत्री के बयान के बाद मसूद पर शिकंजा कसने की तैयारी सूत्रों के मुताबिक, पाकिस्तान के विदेश मंत्री का ये बयान दर्शाता है कि पाक सरकार मसूद अजहर के संपर्क में है और इसमें कोई संदेह नहीं है कि मसूद अजहर जैश-ए-मोहम्मद का मुखिया है। पाकिस्तानी विदेश मंत्री के बयान के बाद मसूद अजहर को UNSC 1267 की प्रतिबंधित सूची में डालने की भारत की मांग को और अधिक बल मिला है। ये भी पढ़ें:अभिनंदन के एडिटेड VIDEO के जवाब में इमरान का वीडियो वायरल, लोगों ने लिए खूब मजे Sources: Recent interviews by Pakistan FM Shah Mehmood Qureshi confirms Pak govt in touch with JeM Chief Masood Azhar, no denial that Azhar is chief of Jaish-E-Mohammad. This makes India’s case to put Masood Azhar in UNSC 1267 sanctions list.
— ANI (@ANI) March 5, 2019 भारत किसी भी देश की मध्यस्थता को स्वीकार नहीं करेगा सूत्रों ने बताया कि भारत आतंकवाद के खिलाफ अपनी मुहिम से किसी भी हालत में पीछे नहीं हटेगा और भारत किसी भी देश की मध्यस्थता को स्वीकार नहीं करेगा। भारत ने दुनिया के अन्य देशों को बताया है कि जैश के ठिकानों पर हवाई हमला आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई है, ये भारत-पाकिस्तान का मसला नहीं है। सूत्रों ने बताया कि भारत FATF के सदस्य देशों को बताएगा कि पाकिस्तान ने आतंकवादियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है। भारत मसूद अजहर पर प्रतिबंध के लिए यूएन सिक्योरिटी काउंसिल के सभी 15 देशों को साथ लाने की कोशिश में जुटा है। पाकिस्तान वैश्विक स्तर पर अलग-थलग पड़ा मसूद अजहर के बीमार होने के सवाल पर सूत्रों ने बताया कि मुल्ला उमर और ओसामा बिन लादेन के मामले में भी ऐसा ही हुआ है। भारत की कोशिश मसूद को यूएन की प्रतिबंधित सूची में डालने की है। OIC में जहां, भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज गेस्ट ऑफ ऑनर के तौर पर मौजूद थी, वहां, पाकिस्तान की गैर-मौजूदगी दर्शाती है कि उसे उसके घर में अलग-थलग कर दिया गया है।
Source: OneIndia Hindi

Related posts