मंगलवार को लखनऊ के मशहूर टुंडे कबाब परोसे जाने पर प्रियंका गांधी ने ऐसे किया रिएक्ट

मंगलवार के दिन नॉनवेज पर क्या बोलीं प्रियंका बीते मंगलवार को प्रियंका गांधी कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ लखनऊ में बैठक कर रहीं थी। कांग्रेस कार्यकर्ताओं को चुनाव संबंधी दिशा-निर्देश दिए जाने के बाद नाश्ते के तौर पर प्रियंका गांधी के सामने लखनऊ के मशहूर टुंडे कबाबी की दुकान से कबाब मंगाकर परोसे गए। कबाब देखकर प्रियंका गांधी ने उन्हें खाने से इंकार करते हुए कहा कि वो मंगलवार के दिन नॉनवेज नहीं खातीं। आपको बता दें कि लखनऊ में टुंडे कबाबी के कबाब बेहद मशहूर हैं। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने यही सोचते हुए कि प्रियंका के सामने लखनऊ की फेमस डिश परोसी जाए, नाश्ते के लिए कबाब मंगवाए थे। हालांकि प्रियंका के इंकार के बाद कबाब नाश्ते की टेबल से हटा लिए गए। ये भी पढ़ें-प्रियंका गांधी की एंट्री से किसे होगा ज्यादा नुकसान, SP-BSP या BJP? सामने आया बड़ा सर्वे 16 घंटे तक कार्यकर्ताओं के साथ बैठक बैठक के दौरान प्रियंका गांधी ने कार्यकर्ताओं से कहा, ‘देशभर में पार्टी कार्यकर्ता उत्साह में हैं और 2019 की लड़ाई हम पूरी ताकत से लड़ेंगे। मैं लोकसभा चुनाव नहीं लड़ूंगी और इस बार नरेंद्र मोदी की सीधी टक्कर राहुल गांधी से है। मैं कांग्रेस संगठन के बारे में अभी सीख रही हूं, लोगों की राय सुन रही हूं। चुनाव में कैसे जाना है, इस पर भी बात हो रही है। कांग्रेस के तमाम कार्यकर्ता आपसी गुटबाजी खत्म कर पूरी तरह से चुनाव के लिए जुट जाएं। प्रियंका ने मंगलवार से लेकर बुधवार तक लगातार 16 घंटे तक कार्यकर्ताओं के साथ बैठक की। इस बैठक में अलग-अलग लोकसभा क्षेत्रों से आए पार्टी कार्यकर्ता भी शामिल हुए। कांग्रेस महासचिव बनने के बाद प्रियंका का यूपा का ये पहला दौरा था। पूछे ऐसे सवाल, जवाब देने में छूटे पसीने बैठक में प्रियंका गांधी ने तमाम पदाधिकारियों से कई सवाल पूछे, जिनका जवाब देने में उनके पसीने छूट गए। प्रियंका ने पदाधिकारियों से पूछा कि आपकी बूथ संख्या क्या है, आपने पिछला कार्यक्रम क्या किया, कितने समय पहले किया, कार्यक्रम का नाम क्या था, उसके बाद कौन सा कार्यक्रम किया। इन सवालों के जवाब दे पाना पदाधिकारियों के लिए मुश्किल साबित हो रहा था। इस दौरान प्रियंका ने पूछा कि चुनाव कौन लड़ना चाहता है, जिसपर आधे से ज्यादा लोगों ने हाथ खड़े किए। प्रियंका गांधी ने पदाधिकारियों से कहा कि जिस भी उम्मीदवार का नाम चुना जाएगा आप सब उसे मिलकर चुनाव लड़ाएंगे। इस दौरान एक ब्लॉक स्तर के अधिकारी से जब प्रियंका गांधी ने सवाल पूछा तो वह रोने लगे और कहा कि प्रभारी से मिलने का मौका नहीं मिलता था, बड़े लोग ही एयरपोर्ट पहुंचते थे और वही लोग उनसे मिल पाते थे। ये भी पढ़ें-प्रियंका गांधी की पहली रौबदार मीटिंग में सामने बैठे दो शख्स कौन हैं?
Source: OneIndia Hindi

Related posts