Tata Motors के अलावा कौन देता है ट्रक ड्राइवर को 10 लाख का इंश्योरेंस- गिरीश वाघ: EXCLUSIVE

Publish Date:Sun, 27 Jan 2019 11:00 AM (IST)

नई दिल्ली (श्रीधर मिश्रा)। Tata Motors (टाटा मोटर्स) ने हाल ही में E Commerce Expo 2019 में 13 कॉमर्शियल वाहनों को पेश किया था। इनमें SCV, ILCV और MHCV सेगमेंट में सबसे ज्यादा बिकने वाले वेरिएंट्स भी शामिल थे। इस इवेंट में Tata (टाटा) ने सर्विस को और भी पारदर्शी (ट्रांसपैरेंट) बनाने के लिए कुछ नए फीचर्स पेश किए। इनमें तीन CCTV कैमरे के साथ एक रियर कैमरा, टच स्क्रीन, कनेक्टिविटी और OTP से खुलने वाला कंटेनर शामिल है। इस दौरान हमने Tata Motors के कॉमर्शियल व्हीकल बिजनेस यूनिट के प्रसिडेंट गिरीश वाघ से तमाम मुद्दों पर EXCLUSIVE सवाल किए, जिनका उन्होंने बड़े बेबाकी से जवाब दिया। ये रहे कुछ अंश..
छोटे शहरों या गांवों को कीतनी बड़ी चुनौती के तौर पर देखते हैं?

गिरीश वाघ- ये गए कुछ सालों में जब हम बोलते हैं कि रोड (सड़क) सेक्टर में अच्छा काम हुआ है, तो हम सोचते हैं कि हाइवे में अच्छा काम हुआ है, लेकिन अगर हम आकड़ों पर जाएं तो आप देखेंगे कि ‘प्रधानमंत्री ग्राम सड़क’ योजना में बहुत ज्यादा काम हुआ है। यहां हाईवे से ज्यादा काम हुआ है। इसके कारण गांव से सड़कों की कनेक्टिविटी पहले के मुकाबले बहुत बेहतर हुई है।

Tata Motors अपनी कॉमर्शियल वाहनों की स्पीड और तकनीक दोनों को बढ़ा रही है, लेकिन ये वाहन उन सड़कों पर कितने कारगर साबित होंगे, जहां सड़कें अभी बनी नहीं हैं या फिर अच्छी नहीं हैं?

गिरीश वाघ- हमने अपनी गाड़ियों को बनाया ही ऐसा था कि वो खराब सड़कों को अच्छा परफॉर्म कर सकें। अब जब सड़कें अच्छी हो रही हैं, तो हमें अपनी गाड़ियों को रीइंजीनियर करना पड़ेगा ताकी वो अच्छे और खराब दोनों सड़कों पर बेहतर परफॉर्म कर सकें। इसलिए हम खराब सड़कों पर अपने वाहनों को लेकर बिलकुल भी चिंतित नहीं हैं। अगर आप हमारे गाड़ियों को पोर्टफोलियो देखेंगे तो हम एक गाड़ी बनाते हैं Tata Tipper जो डीप माइनिंग में चलती हैं। उस पर क्रिडिबिलिटी 40-40 डिग्री की रहती है। ऐसी गाड़ियां किसी भी जगह चल सकती हैं। वहीं, दूसरी ओर हमारी Tata ACE है जो शहरों में चलती है। तो हमारे लिए सड़क की गुणवत्ता (रोड क्वालिटी) चिंता का कारण नहीं है। हम उन तकनीक को शामिल कर रहे हैं, जिनसे इन वाहनों में ज्यादा माइलेज मिलता है। हम गियर चेंज करने को घटा रहे हैं, जिससे ज्यादा इंधन (फ्यूल) की बचत होगी। इससे पूरे ऑपरेशन की लागत कम आएगी।
आपने अपने ‘सम्पूर्ण सेवा’ (Sampurna Seva) प्रोग्राम के तहत ड्राइवर से लेकर ग्राहक तक को सोचा है, तो क्या अब Tata Motors सर्विस के साथ ट्रस्ट(विश्वास) को बढ़ाने पर ज्यादा ध्यान दे रही है?

गिरीश वाघ- आपने परफेक्ट सवाल पूछा है, इसका जवाब वही है। हमने देखा है कि हम जब भी किसी ग्राहक से बात करते हैं तो ये साफ रहता है कि वो हमारी गाड़ियों को एडऑन के कारण नहीं बल्कि सुविधा के कारण खरीदते हैं। बतौर ग्राहक आप एक संतरा भी खरीदना चाहते हैं तो आप उसे ऐसे वेंडर से खरीदना चाहेंगे जिसपर आपको यकीन होगा। अब सवाल यह है कि विश्वास कैसे पैदा होगा, तो इसका जवाब है उस वेंडर या कंपनी का पुराना रिकॉर्ड। कॉमर्शियल सेक्टर और ट्रांसपोर्ट सेक्टर में तो विश्वास सबसे अहम होता है। पिछले दो सालों में हमने कई वाहनों को लॉन्च किया, इस दौरान हमारी पूरी कोशिश रही कि हम ग्राहक को अपनी ‘सम्पूर्ण सेवा’ दें।

आप ‘सम्पूर्ण सेवा’ को आसान भाषा में कैसे समझाएंगे?

गिरीश वाघ- ‘सम्पूर्ण सेवा’ में सबसे पहले हमने हेवी और मीडियम कॉमर्शियल व्हीकल में 6 साल या 6 लाख किलोमीटर का वारंटी दिया है, मुझे तो पता नहीं है कि ग्लोबली ऐसा कौन देता है। इसके बाद हमारा सर्विस नेटवर्क का स्ट्रेंथ देखते हुए हमने एक स्कीन Alert (अलर्ट) लॉन्च किया है, जो एक ब्रेक डाउन सर्विस है। यानी पूरे देश में कहीं भी, किसी भी समय (दिन या रात) में अगर आपकी गाड़ी खराब हो जाती है, तो टोलफ्री नंबर पर कॉल करने पर हमारा वादा है कि हम चार घंटे के भीतर पहुंचेंगे और 24 घंटों में गाड़ी अप एंड रन करेंगे और अगर बहुत जरूरी कार्गो है तो कई मौकों पर हम लोनर वाहन देते हैं जिससे सामान सही समय पर पहुंचे। इससे हमारी सर्विस दूसरों के मुकाबले बहुत अलग हो जाती है।
अगर आप ग्राहक से पूछेंगे तो उनके अंदर यह विश्वास है कि ‘अगर हम टाटा के साथ काम करेंगे तो वो 24 घंटे हमारे साथ हैं’। ग्राहकों को भरोसा है कि अगर उनका सामान अटक गया या गाड़ी खराब हो गई तो टाटा उनके साथ है।

तीसरा हमारी एक इंश्योरेंस स्कीम है- जब हम एक ट्रक बेचते हैं तो ट्रक के साथ ड्राइवर को एक्सीडेंटल इंश्योरेंस मिलता है। इस इंश्योरेंस की सबसे बड़ी खासियत यह है कि ये ड्राइवर से ड्राइवर ट्रांसफर होती रहती है। यानी की अगर मैं ड्राइवर तो अगर हादसा होता है और मुझे कुछ होता है, तो मुझे 10 लाख का इंश्योरेंस मिलेगा। अब अगर कोई और ड्राइवर है, तो ये इंश्योरेंस उस ड्राइवर को मिलेगा। ऐसा इंश्योरेंस केवल हम देते हैं।
गाड़ी की लागत को कम करने के लिए क्या कर रहे हैं आप?

गिरीश वाघ- ऑपरेटिंग कॉस्ट को कम करने के लिए हमने कुछ बातों पर ध्यान दिया। जैसे लागत किन वजहों से ज्यादा आती है, तो इसका पहला जवाब मिला ऑयल और गियरबॉक्स। इसके लिए हमने अपना ऑयल शुरू किया Tata Motors Genuine Oil, इससे हमने तेल की कीमत को 30 फीसद तक कम कर दिया। स्पेयर कॉस्ट को कम करने के लिए हमने स्पेयर को सस्ता किया। इसके अलावा हमने सालाना मैनटेनेंस कॉन्ट्रेक्ट शुरू किया, जहां देश के किसी भी कोने में इस कॉन्ट्रेक्ट को हम ले रहे हैं, जहां गाड़ी की चिंता हमारी है।
इलेक्ट्रिक वाहनों को लेकर आपकी क्या तैयारी है?

गिरीश वाघ- अभी हम केवल कॉमर्शियल और पैसेंजर व्हीकल पर ज्यादा ध्यान दे रहे हैं। हालांकि, आने वाले समय में हम इलेक्ट्रिक वाहनों पर काम करेंगे।
BS6- नॉम्स कितनी बड़ी चुनौती है?

गिरीश वाघ- सरकार की तरफ से हमें पहले ही समय दिया गया था। हालांकि, इस सवाल के जवाब में कहूंगा कि यह हमारे लिए एक चुनौती थी, जिसको लेकर हमने काफी मेहनत की है। 
[embedded content]
यह भी पढ़ें:
भारत में 10 लाख रुपये से कम कीमत में ये हैं 5 सबसे लेटेस्ट कारें, जानें कीमत और फीचर्स
सड़क पर गाड़ी चलाते समय इन 8 गलतियों से कट सकता है चालान, हो सकती है जेल
2019 में भी धमाल मचाएंगी ये 6 बाइक्स, जानें कीमत और फीचर्स
Posted By: Shridhar Mishra

Source: jagran.com

Related posts