राजस्थान में नारकोटिक्स के अतिरिक्त कमिश्नर घूस लेते रंगे हाथों गिरफ्तार

Publish Date:Sun, 27 Jan 2019 10:56 AM (IST)

 जागरण संवाददाता, जयपुर। गणतंत्र दिवस पर भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) की टीम ने एक बड़ी कार्रवाई करते हुए केंद्रीय नारकोटिक्स विभाग के अतिरिक्त कमिश्नर डॉ. सहीराम मीणा को एक लाख रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया।
मामले में एसीबी ने मीणा के अलावा उन्हें रिश्वत की मोटी रकम देने वाले अफीम काश्तकार नंदलाल धाकड़ के बेटे कमलेश धाकड़ को भी गिरफ्तार किया है। रिश्वत की यह रकम पट्टे का मुखिया बनाने की एवज में ली और दी जा रही थी।
एसीबी महानिदेशक आलोक त्रिपाठी के निर्देशन में इसकी मॉनीटरिंग एडीजी एसीबी सौरभ श्रीवास्वत व आइजी दिनेश एमएन को सौंपी गई थी। मीणा के सरकारी आवास पर एसीबी ने इस ऑपरेशन को अंजाम दिया। उनके कोटा स्थित घर की तलाशी में चार लाख रुपये नकद बरामद किए गए। इसके अलावा जयपुर स्थित आवास पर भी सर्च किया ।
सर्विलांस पर था फोनएसीबी ने रिश्वत देने वाले व्यक्ति का फोन सर्विलांस पर लिया था। इसके बाद गणतंत्र दिवस पर दोनों को रंगे हाथों धरदबोचा। एसीबी के एएसपी ठाकुर चंद्रशील ने बताया कि सूत्रों की सूचना पर एसीबी ने चित्तौड़गढ़ के गांव कनेरा निवासी आरोपित कमलेश धाकड़ के फोन को सर्विलांस पर लिया था। इसमें पता चला कि जिला अफीम अधिकारी चित्तौड़गढ़ ने कमलेश के पिता और अफीम काश्तकार नंदलाल धाकड़ को अफीम की खेती के लिए पट्टे का मुखिया नहीं बनाकर किसी अन्य किसान को बना दिया था। इसकी शिकायत कमलेश ने नारकोटिक्स ब्यूरो के अतिरिक्त कमिश्नर सहीराम मीणा को की थी।

इस पर डॉ. सहीराम ने शिकायत पर कार्रवाई करने तथा पूर्व पट्टे के मुखिया को हटाने और कमलेश के पिता नंदलाल धाकड़ को मुखिया बनाने की एवज में पांच लाख रुपये की रिश्वत की मांग की गई थी। धाकड़ और सहीराम की बातचीत में शनिवार को सरकारी बंगले पर रिश्वत की रकम देना तय हुआ। इस पर एसीबी हेडक्वार्टर ने ट्रेप के लिए स्पेशल ऑपरेशन रचा। गणतंत्र दिवस पर कमलेश धाकड़ दोपहर के वक्त सहीराम मीणा के सरकारी आवास पर पहुंचा।
यहां एक लाख रुपये रिश्वत की रकम लेते ही एसीबी टीम ने डॉ. सहीराम मीणा और कमलेश धाकड़ को रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। यह कार्रवाई एसीबी कोटा चौकी के प्रभारी एडिशनल एसपी ठाकुर चंद्रशील के नेतृत्व में की गई। मीणा के सरकारी कमरे से एसीबी ने 3.95 लाख रुपये भी बरामद कर लिए। इसके बाद उनके कोटा व जयपुर में शिव विहार स्थित निजी आवास की तलाश की गई। इस कार्रवाई के बाद नारकोटिक्स विभाग में हलचल मचा दी है।

Posted By: Arun Kumar Singh

Source: Jagran.com

Related posts

Leave a Comment