पूर्व IAS शाह फैसल बोले, कश्मीर मसला सुलझाने का वक्त आ गया है

पूर्व आईएएस अधिकारी शाह फैसल ने रविवार को कहा, वक्त आ गया है कि कश्मीर मसले को सुलझाया जाए. क्योंकि ‘राजनीतिक समस्याओं के सैन्य समाधान से कुछ नहीं होगा बल्कि कब्रिस्तान बनेंगे.फैसल  अपने सियासी सफर के लिए आम लोगों से चंदे की वसूली (क्राउडफंडिंग) का अभियान शुरू कर चुके हैं. फैसल 1994 में कुपवाड़ा कस्बे में 27 लोगों के मारे जाने और 38 अन्य लोगों के घायल होने की घटना पर टिप्पणी कर रहे थे.फैसल ने एक ट्वीट में कहा, राजनीतिक समस्याओं का समाधान सैन्य तरीके से करने के प्रयास में इधर भी कब्रिस्तान बनते हैं और उधर भी. ‘फैसल ने कहा, ‘कुपवाड़ा में जनसंहार की 25वीं बरसी पर आज मैं कश्मीर के लोगों और उनकी कुर्बानी के प्रति एकजुटता व्यक्त करता हूं.’फैसल ने कहा, ‘समाधान का समय आ गया है.’ उन्होंने नौ जनवरी को भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के अधिकारी के तौर पर अपना इस्तीफा दे दिया था.शाह ने 2009 के बैच से भारतीय सिविल सेवा परीक्षा में टॉप करने वाले पहले कश्मीरी थे. उस समय के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने भी उनकी सफलता पर बधाई दी थी. सिविल सर्विस एग्जान क्लियर करने के बाद शाह जम्मू और कश्मीर में यूथ आइकॉन की तरह उभरे थे.शाह फैसल के पिता को 2003 में आतंकवादियों ने मार दिया था, क्योंकि उन्होंने आतंकियों को शरण देने से इनकार कर दिया था. 17 मई 1983 को कुपवाड़ा में जन्मे शाह ने मेडिकल साइंस के क्षेत्र में पढ़ाई की. उनकी मां मुबिना शाह और पिता रसूल शाह सरकारी स्कूल में टीचर थे.शाह फैसल: आतंकियों ने कर दी थी पिता की हत्या, मोमबत्ती में पढ़कर UPSC में किया था टॉप
Source: News18 News

Related posts