Interview: सबरीमाला मंदिर में प्रवेश करने वाली महिला बोली, चीजें एक दिन में नहीं बदलतीं

Publish Date:Wed, 02 Jan 2019 08:07 PM (IST)

नई दिल्ली, एजेंसी। लंबी जद्दोजहद के बाद सबरीमाला मंदिर (Sabarimala Temple)में दो महिलाएं प्रवेश पाने में कामयाब हो गईं। इसके साथ ही वर्षों से चली आ रही परंपरा भी टूट गई और सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court Verdict) के फैसले को अमल में लाने में केरल सरकार कामयाब हो गई। वहीं, महिलाओं के प्रवेश के बाद मंदिर को शुद्धिकरण के लिए कुछ देर के लिए बंद कर दिया गया है।
जानकारी के मुताबिक करीब 40 वर्षीय दो महिलाएं बिंदू और कनकदुर्गा ने सुबह पौने चार बजे के करीब मंदिर में प्रवेश कर गईं और वहां पूजा-अर्चना की। उन दोनों के साथ पुलिस भी थी। इससे पहले दोनों ने 18 दिसंबर को सबरीमाला मंदिर में प्रवेश करने की कोशिश की थी लेकिन भारी विरोध के चलते कामयाब नहीं हो पाईं थी। दोनों के प्रवेश करने का वीडियो भी सामने आया है।
मंदिर में रजस्वला महिलाओं के प्रवेश करने की परंपरा टूट जाने के बाद राज्य में भाजपा ने प्रदर्शन शुरू कर दिया है। भाजपा महिला मोर्चा की कार्यकर्ता प्रवेश करने वाली दो महिलाओं के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। मंदिर में प्रवेश करने वाली महिलाओं के घर और परिवार की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

सबरीमाला मंदिर में प्रवेश करने वाली एक महिला से संवाददाता ने बातचीत की। पेश है उसके अंश।
प्रश्‍न: क्‍या आपको जान से मारने की धमकी दी जा रही है? 

सबसे पहले हम पंबा जाने के लिए रात 1.30 बजे निकले और 3.45 बजे सबरीमाला मंदिर से वापस आ गए तब तक कोई परेशानी नहीं हुई थी।
प्रश्‍न: क्‍या मंदिर में प्रवेश करते हुए किसी श्रद्धालु ने आप लोगों को नोटिस नहीं किया ?

जब हम पंबा पहुंचे तो सबसे पहले पुलिस से सुरक्षा की मांग की। इसके बाद हमने तड़के मंदिर में प्रवेश कर लिया।
प्रश्‍न: क्‍या आप पुलिस सुरक्षा में घर जा रही हैं, क्‍या आपको डर लग रहा है

फिलहाल हम नहीं डरे हुए हैं। हमने कानूनी अधिकार का पालन का किया। हम 100 फीसदी निश्‍चिंत थे कि लोग हमको किसी प्रकार की हानि नहीं पहुंचाएंगे।
प्रश्‍न: क्‍या यह मंदिर जाने का दूसरा प्रयास था। इससे पहले भी एक बार जब आपने मंदिर में जाने का प्रयास किया था तो आपको रोक दिया गया था।

हां, शनिधाम 3 बजे खोला गया और हमने मंदिर में प्रवेश में किया।
प्रश्‍न: क्‍या आप सोचती हैं कि इससे क्‍या बदलाव आएगा, क्‍या इससे दूसरी महिलाओं के प्रवेश में आसानी होगी? 

हां, ऐसा होगा, हम केरल के इतिहास के बारे में जानते हैं। चीजें एक दिन में नहीं बदलती हैं। महिलाएं आएंगी और प्रयास करेंगी। इसके बाद बदलाव आएगा।
प्रश्‍न: क्‍या आपके परिवार के लिए कोई डर है ?

भाजपा और नामजपा के लोग लोग प्रदर्शन कर रहे हैं, लेकिन इनकी तादाद बहुत थोड़ी है। लेकिन दूसरे लोग प्रदर्शन कर रहे हैं। अन्‍य लोग हमारे साथ हैं। 
Posted By: Arun Kumar Singh

Source: Jagran.com

Related posts

Leave a Comment