सरकारी कंपनियों में पैसा बनाने का आखिरी मौका! कर सकते हैं 5000 रु. से शुरुआत

सरकारी कंपनियों के ईटीएफ के एफपीओ को निवेशकों का शानदार रिस्पॉन्स मिला है. यह CPSE एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ETF) का तीसरा चरण है. रिलायंस निपॉन लाइफ एसेट मैनेजमेंट (RNAM) इसको लॉन्च किया है. नॉन एंकर इन्वेस्टर्स के लिए ये 30 नवंबर तक खुला है. सीपीएसई ईटीएफ में 11 सरकारी कंपनियां होगी और सरकार की इससे 8000 करोड़ रुपये जुटाने की योजना है. रिटेल निवेशकों को 4.5 फीसदी का डिस्काउंट मिलेगा.क्या है सीपीएसई ईटीएफ- यह सेंट्रल पब्लिक सेक्टर एंटरप्राइजेज (सीपीएसई) के शेयरों को शामिल कर बनाया गया एक एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) है. इसे स्टॉक एक्सचेंजों पर सूचीबद्ध कराया गया है, जहां इसकी यूनिटों की खरीद-फरोख्त की जा सकती है.ऐसे कर सकते हैं इन्वेस्टमेंट->> सीपीएसई ईटीएफ में निवेश के लिए डीमैट अकाउंट होना जरूरी है. इसमें रिटेल निवेश की सीमा 5,000 रुपये है.>>इस निवेश के लिए चेक, डेबिट कार्ड, ऑनलाइन बैंकिंग के जरिए पेमेंट करें और बीएसई/एनएसई के ब्रोकर्स के जरिए ही निवेश कर सकते है.>> इस ईटीएफ में निवेश के लिए सीपीएसई ईटीएफ एफएफओ के नाम से ही चेक बनाना होगा.>> फॉर्म के साथ डीमैट प्रूफ और चेक होना जरूरी है.
Loading…
>> साथ ही अपडेटेड केवाईसी और फटका डिक्लेरेशन होना जरूरी है.>> निवेश के लिए आवेदन फार्म reliancemutual.com से फॉर्म डाउनलोड करना होगा.>> सीपीएसई ईटीएफ में निवेश के लिए अपना फार्म रिलायंस म्युचुअल फंड के ऑफिस में, कार्वी के ऑफिस में, एएमएफआई रजिस्टर्ड बीएसई/एनएसई मेंबर के पास या एएमएफआई  रजिस्टर्ड फाइनेंशियल एडवाइजर्स के पास जमा करें.>> सीपीएसई ईटीएफ में ऑनलाइन निवेश के लिए www.reliancemutual.com पर फॉर्म भरें. अगर आप रिलायंस एमएफ की किसी स्कीम में पहले से निवेशित हैं तो आप मौजूदा स्कीम से सीपीएसई ईटीएफ में स्विच कर सकते हैं.ये भी पढ़ें:  सरकार की इस स्कीम में 10 हजार रुपए तक मिल सकती है पेंशन, आप भी उठा सकते हैं फायदा>> इसके अलावा आप एनएसई म्युचुअल फंड सर्विस सिस्टम (MFSS), एनएसई ई-आईपीओ प्लैटफॉर्म पर एनएसई के किसी ब्रोकर के जरिए, बीएसई स्टाल एमएफ- बीएसई ब्रोकर के जरिए, बीएसई ई-आईपीओ प्लैटफॉर्म पर-बीएसई ब्रोकर के जरिए या फिर एएमएफआई के प्लैटफॉर्म पर एमएफ यूटिलिटी के जरिए भी सीपीएसई ईटीएफ में ऑनलाइन निवेश कर सकते हैं.सीपीएसई ईटीएफ के बारे में रिलायंस निपॉन एएमसी के ईडी और सीईओ संदीप सिक्का ने कहा कि इससे विनिवेश को रफ्तार मिलेगी. सीपीएसई ईटीएफ में कोल इंडिया, आईओसी, NTPC, आरईसी, पीएफसी, भारत इलेक्ट्रॉनिक्स, ऑयल इंडिया, एनएलसी इंडिया और SJVN शामिल हैं. वहीं गेल, कंटेनर कॉर्प और इंजीनियर्स इंडिया सहित तीन कंपनियों के निकलने से CPSE इंडेक्स में स्टॉक्स की संख्या मौजूदा 10 से बढ़कर 11 हो गई है. तीन कंपनियों को इंडेक्स से इसलिए निकाला गया है कि इनमें सरकार के विनिवेश प्रोग्राम का टारगेट पूरा हो गया है.ये भी पढ़ें: 1 दिसंबर से बंद हो जाएगा SBI का ऑनलाइन बैंक अकाउंट, आपके पास हैं सिर्फ 10 दिन
Source: News18 Money.com

Related posts

Leave a Comment