विराट धर्मसभा: अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर कल दिल्ली में संतों का जमावड़ा

अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण के अंतिम रणनीति की घोषणा के लिए दिल्ली के रामलीला मैदान में रविवार को विराट धर्मसभा का आयोजन होगा. इस दौरान रामलीला मैदान में देशभर से करीब 35 धर्मगुरु, साधु संत राम मंदिर निर्माण के लिए आव्हान करेंगे. करीब 50 हजार लोगों के जुटने की भी उम्मीद है.विराट धर्मसभा की तैयारियों के बीच रामलीला मैदान राम नाम के रंग में रंगा हुआ नजर आ रहा है. देखा जाए तो लोकसभा 2019 से पहले विश्व हिंदू परिषद, आरएसएस और बजरंग दल एक साथ मिलकर सरकार पर राम मंदिर निर्माण को लेकर दबाव बनाते नजर आ रहे हैं. क्योंकि मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है, ऐसे में सभी धार्मिक संस्थाएं और धर्म गुरु चाहते हैं कि बीजेपी राम मंदिर पर अध्यादेश लाए और कानून बनाकर जल्द से जल्द राम मंदिर का निर्माण हो.रामलीला मैदान में कल सुबह 11 बजे विराट धर्मसभा शुरु होगी. इसमें जूना अखाड़ा पीठाधीश्वर महा-मण्डलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरी जी महाराज, श्रीजगन्नाथ पीठाधीश्वर जगदगुरु रामानंदाचार्य स्वामी हंसदेवाचार्य जी महाराज, गीता मनीषी महा-मण्डलेश्वर स्वामी ज्ञानानंद जी महाराज, युग पुरुष परमानंद जी महाराज, वात्सल्य ग्राम संस्थापक दीदी मां साध्वी ऋतंभरा, राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश (भैया जी) जोशी, विश्व हिन्दू परिषद् के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष न्यायमूर्ति (सेवानिवृत) श्री विष्णु सदाशिव कोकजे एवं कार्याध्यक्ष एडवोकेट आलोक कुमार सहित अनेक संत व गणमान्य लोग सभा को संबोधित करेंगे.रामभक्तों की सुविधा के लिए सभा स्थल व आस-पास लगभग दो-तीन किलोमीटर तक दर्जन भर से अधिक बड़ी-बड़ी एलईडी स्क्रीन लगाई गई हैं. जिससे अगर लोग किसी कारणवश रामलीला मैदार न भी पहुंच पाएं तो कार्यक्रम से वंचित न रह पाएं. कार्यक्रम स्थल और उसके आस-पास जगह जगह​ श्रीराम के बड़े-बड़े चित्र व कलश भी रखे गए हैं. जिनमें दिल्ली के राम भक्त अपने-अपने घरों से लाए पूजित संकल्प पुष्पों को अर्पित कर सकें.
Loading…
मेट्रों से आने वाले लोगों को बताया गया है कि वह नई दिल्ली मेट्रो स्टेशन उतरें. क्योंकि यह कार्यक्रम स्थल से सबसे नजदीकी मेट्रों स्टेशन है. दिल्ली-एनसीआर से आने वाली बसों एवं अन्य वाहनों के लिए 16 जगह पार्किंग बनाई गई है. हर पार्किंग स्थलों पर पीने के पानी, शौचालय तथा अनाउन्समेंट सिस्टम होंगे. उत्तर प्रदेश, हरियाणा व पंजाब से जुड़ने वाली राजधानी के सभी सीमाओं पर स्वागत द्वार बनाए जा रहे हैं. वहां पर सभी राम भक्तों के लिए भोजन व पानी के पैकेट दिए जाएंगे. जगह-जगह लैंडमार्क लगाए जाएंगे.ये भी पढ़ें: ‘जैसे ताला खोलने की तिथि बताई गई थी वैसे ही महाकुंभ में बताएंगे मंदिर निर्माण की डेट’ये भी पढ़ें: क्यों 26 साल पहले बर्खास्त की गई थीं बीजेपी की चार राज्य सरकारें?
Source: News18 News

Related posts