बंगाल में अधर में लटकी बीजेपी की रैलियां

प्रतीकात्मक तस्वीर

मोहम्मद शफी शम्सी

| News18HindiUpdated: December 8, 2018, 10:50 PM IST
पश्चिम बंगाल में बीजेपी की तीन प्रस्तावित यात्राओं का कार्यक्रम है जिसे लेकर पिछले तीन दिनों से मामला कलकत्ता हाईकोर्ट में चल रहा है. अभी तक यह साफ नहीं है कि यह कार्यक्रम किस तरह हो पाएगा. इन यात्राओं को पहले रथ-यात्रा के नाम से जाना गया लेकिन बीजेपी इनको ‘गणतंत्र बचाओ यात्रा’ कह रही है.कलकत्ता हाईकोर्ट में गुरुवार के फैसले में भी बीजेपी को राहत नहीं मिली. क्योंकि कोर्ट ने 9 जनवरी तक यात्रा को स्थगित कर दिया था. साथ ही 21 दिसंबर तक जिले के एसपी को बीजेपी के ज़िला नेतृत्व से बात करके यह निर्णय लेने का आदेश दिया था कि क्या ये यात्रा उनके जिले में निकाली जा सकती है या नहीं.शुक्रवार को बीजेपी फिर डिवीजन बेंच पहुंची और कोर्ट ने परिवर्तन के साथ नया आदेश दिया. कोर्ट ने राज्य सरकार के तीन आला अफसरों को बीजेपी के तीन प्रतिनिधियों के साथ आगामी बुधवार तक मीटिंग कर यात्रा पर बात करने को कहा है. साथ ही यह भी आदेश दिया है कि राज्य सरकार शुक्रवार तक इसपर अपनी स्थिति स्पष्ट करे.ये भी पढ़ें: पश्‍चिम बंगाल बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष के काफिले पर हमला, कार का शीशा टूटाअब बीजेपी के तीन नेता राज्य सरकार के प्रति​निधि के साथ बैठक करने के लिए तैयार हैं. राज्य सरकार के पास दो आॅप्शन है. या तो बीजेपी नेताओं के साथ बैठक करे या फिर अपना रुख सुप्रीम कोर्ट की ओर करे. हालांकि बीजेपी ने भी दोनों स्थितियों के लिए तैयारी कर ली है. बीजेपी ने शनिवार को सुप्रीम कोर्ट में ‘विरोध-पत्र’ फाइल कर दिया है. अब अगर बंगाल सरकार सुप्रीम कोर्ट का रुख करती है तो बीजेपी का पक्ष भी रखने के बाद ही सुनवाई होगी.कानून और तर्क से परे बंगाल की राजनीति इस समय तृणमूल बनाम बीजेपी है. बीजेपी का आरोप है कि जब भी कोई कार्यक्रम करना होता है तो तृणमूल कांग्रेस अड़ंगा लगाती है. वहीं तृणमूल आरोप लगाती रही है कि बीजेपी बंगाल में सांप्रदायिकता को बढ़ावा देना चाहती है. इस लिए ऐसे कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं.ये भी पढ़ें: BJP को केंद्र से वैसे ही हटाया जाएगा जैसे बंगाल में माकपा को हटाया: ममता बनर्जी
Loading…

फिलहाल यात्राएं रुकी हुई हैं. बीजेपी के प्लान के अनुसार यात्राएं बंगाल में तीन स्थानों से शुरू होनी हैं जिसमें बीजेपी के सभी बड़े नेता यात्राओं से जुड़े प्रोग्राम्स में शामिल होने वाले थे. नेताओं में प्रधानमंत्री और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह भी शामिल हैं. अब भी पार्टी मानती है कि 16 दिसंबर को सिलीगुड़ी में प्रधानमंत्री की सभा संभव है. आगामी कुछ दिनों में राज्य सरकार और बीजेपी के सहयोग पर काफी कुछ निर्भर है. अन्यथा मामला फिर अदालत में पहुंच सकता है.

Loading…

और भी देखें

Updated: December 06, 2018 07:28 PM ISTकोलकाता हाईकोर्ट ने रोकी बीजेपी की ‘रथ यात्रा’, शाह होने वाले थे शामिल

Source: News18 News

Related posts